Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
टी-20 वर्ल्ड कप

आज हो रहा है वर्ल्ड कप का पहला मैच, इन नए नियमो के साथ खेल रहे है भारत और ऑस्ट्रेलिया

इस न्यूज़ को शेयर करे:

स्पोर्ट्स डेस्क :- क्रिकेट के सबसे छोटे फॉर्मेट यानी टी-20 वर्ल्ड कप का आगाज 16 अक्टूबर से शुरू होने जा रहा है. यह आठवां टी-20 वर्ल्ड कप है. 2007 से अब तक यह केवल दूसरा मौका है जब लगातार दो साल में दो बार यह Tournament हो रहा है. पिछले साल अक्टूबर-नवंबर में ही UAE में सातवां वर्ल्ड कप खेला गया था. असल में पिछला टूर्नामेंट 2020 में ही होना था, लेकिन कोरोना महामारी के कारण इसे आगे करना पड़ा. इससे पहले 2009 और 2010 में लगातार दो साल दो बार टी-20 वर्ल्ड कप हुए थे. टीम इंडिया अपना पहला मैच दिवाली के एक दिन पहले 23 अक्टूबर को खेलगी. आइए, आपको कुछ ऐसी बातों के बारे में बताते हैं जिनसे इस वर्ल्ड कप को लेकर आप का रोमांच और भी बढ़ जाएगा.

ऑस्ट्रेलिया कर रहा है मेजबानी 

इस बार के टी-20 वर्ल्ड कप का Host ऑस्ट्रेलिया है. टूर्नामेंट के सभी मैच ऑस्ट्रेलिया के सात अलग-अलग शहरों में होंगे. भारत ओर अन्य सभी टीमें ऑस्ट्रेलिया पहुंच चुकी हैं. अभी Warmup मैच खेले जा रहे हैं. टूर्नामेंट का फाइनल मैच 13 नवंबर को मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर खेला जाएगा. इस टूर्नामेंट में भारतीय टीम सुपर-12 राउंड से उतरेगी. पिछली बार की तरह इस बार भी वर्ल्ड कप में 16 टीमें भाग ले रही हैं. क्वालिफाइंग मुकाबले 16 अक्टूबर से 21 अक्टूबर तक आयोजित होंगे. क्वालिफाइंग राउंड के लिए 8 टीमों को 4-4 के दो ग्रुप में बांटा गया है. इन्हें ग्रुप A और ग्रुप B नाम दिया गया है.

क्वालिफाइंग राउंड में नीदरलैंड्स, श्रीलंका, UAE, नामीबिया, आयरलैंड, वेस्टइंडीज, स्कॉटलैंड और जिम्बाब्वे शामिल हैं.

ग्रुप A : नीदरलैंड्स, श्रीलंका, UAE, नामीबिया

ग्रुप B : आयरलैंड, वेस्टइंडीज, स्कॉटलैंड, जिम्बाब्वे

सुपर-12 की टीमों को भी 2 ग्रुप में बांटा गया है जिन्हें ग्रुप 1 और ग्रुप 2 नाम दिया गया है

ग्रुप 1 : इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, अफगानिस्तान

ग्रुप 2 : बांग्लादेश, पाकिस्तान, इंडिया, साउथ अफ्रीका

सुपर-12 टीमों के बीच 30 मैच खेले जाएंगे. जिसके बाद इनमें से 4 टीमें सेमीफाइनल में आएगी. पूरे टूर्नामेंट में कुल 45 मैच होंगे.

वर्ल्ड कप विनर को मिलेगा इतना प्राइज Money

वर्ल्ड कप का Prize मनी पूल 5.6. मिलियन डॉलर, यानी करीब 46 करोड़ 8 लाख रुपए का है. 13 नवंबर जो टीम फाइनल जीतेगी उसे 1.6 मिलियन डॉलर, यानी 13 करोड़ 17 लाख रुपए मिलेंगे. वहीं, रनरअप टीम को 6 करोड़ 60 लाख रुपए मिलेंगे. टूर्नामेंट के आखिर में सेमीफाइनल से बाहर होने वाली 2 टीमों को 4,00,000 डॉलर (3 करोड़ 30 लाख रुपए) और बाकी बची 8 टीमों को 70,000 डॉलर (57 लाख 61 हजार) रुपए मिलेंगे. सुपर 12 फेज के 30 मैचों में से हर एक मैच जीतने पर टीमों को 40,000 डॉलर (32 लाख 51 हजार रुपए) मिलेंगे.

हर मैच में जीतने वाली टीम को मिलेंगे 2 पॉइंट

ग्रुप स्टेज में हर मैच में जीत हासिल करने वाली टीम को 2 पॉइंट दिए जाएंगे. यदि मैच टाई होता है तो Super over से फैसला होगा. वहीं किसी कारण सुपर ओवर नहीं हो पाया या मैच रद्द हो गया तो दोनों टीमों को 1-1 पॉइंट दिया जाएगा. मैच हारने वाली टीम को कोई पॉइंट नहीं मिलेगा. ग्रुप स्टेज में अगर दो टीमों के पॉइंट्स बराबर रहे तो उनके बीच जीत की संख्या और नेट रन रेट के आधार पर निर्णय लिया जाएगा कि कौन सी टीम आगे जाएगी.

नए नियम होंगे पर प्रभावी

20 सितम्बर 2022 को इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने इंटरनेशनल क्रिकेट के कई नियमों को बदल दिया है. यह सभी नियम 1 अक्टूबर से प्रभावी भी हो गए हैं.

1. नियम है कि खेल के दौरान बल्लेबाज के बैट के कुछ हिस्से को या बल्लेबाज को पिच के अंदर होना ही होता है. यदि बल्लेबाज पिच से बाहर आ कर बॉल खेलने की कोशिश करता है तो अंपायर उसे Deadfall घोषित कर सकता है. यदि कोई गेंद बल्लेबाज को पिच से बाहर आ कर खेलने के लिए मजबूर करती है तो उसे नो बॉल करार किया जाएगा.

2. यदि गेंदबाज रनरअप के दौरान जानबूझकर या गलती से कोई Unfair Movement करता है तो अंपायर पेनल्टी के तौर पर बैटिंग कर रही टीम को 5 पॉइंट दे सकता है. इसके साथ ही उस बॉल को डेड बॉल भी घोषित किया जा सकता है.

3. यदि नॉन-स्ट्राइक एंड पर खड़ा बल्लेबाज क्रीज से बाहर है और गेंदबाज ने तब तक बॉल नहीं की है और ऐसे में गेंदबाज नॉन-स्ट्राइकर End के स्टंप पर बॉल थ्रो कर दे तो बल्लेबाज आउट माना जाएगा. इसे मांकडिंग कहा जाता था, लेकिन नए नियमों के अनुसार इसे रनआउट की श्रेणी में रखा गया है.

4. जब कोई बल्लेबाज Catch Out होता है तो उसकी जगह पर आने वाला नया बल्लेबाज ही स्ट्राइक लेगा. भले ही कैच होने के दौरान दोनों बल्लेबाज रन लेने के लिए क्रॉस कर रहे हों, लेकिन नए बल्लेबाज को स्ट्राइक एंड पर आना जरूरी होगा. इसके पहले तक नया बल्लेबाज नॉन-स्ट्राइक एंड पर आता था.

5. पिछले 2 साल से इंटरनेशनल क्रिकेट में बॉल पॉलिश करने के लिए लार (सलाइवा) के इस्तेमाल पर अस्थायी रोक थी. ऐसा कोविड प्रोटोकॉल्स की वजह से किया गया था, लेकिन अब इसे स्थायी कर दिया गया है. अब कोई भी खिलाड़ी बॉल पॉलिश करने के लिए लार का प्रयोग नहीं करेगा.

6. गेंदबाज देखता है कि स्ट्राइक एंड पर खड़ा बल्लेबाज उनके डिलीवरी स्ट्राइड में आने से पहले ही क्रीज से ज्यादा बाहर है तो वो स्ट्राइकर को रन आउट करने के लिए बॉल फेंक सकता था, लेकिन अब इस प्रैक्टिस को अमान्य कहा गया है. यदि कोई गेंदबाज ऐसा करता भी है तो इस गेंद को डेड बॉल माना जाएगा.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
PAK VS NZ T20 WC 2022 Playing 11: सेमाीफाइनल मुकाबले में ऐसी हो सकती है न्यूजीलैंड और पाकिस्तान की प्लेइंग 11 ये हैं भारत की सबसे ज्यादा फीचर्स वाली टॉप-5 सीएनजी कारें, Top CNG Cars ICC T20 World Cup 2022: India vs England सेमीफाइनल मुकाबले से पहले बुरी खबर, यह स्टार खिलाड़ी हुआ चोटिल