Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Latest News

अग्निवीर की तरह बैंकों में भी होगी भर्ती, कॉन्ट्रेक्ट पर रखे जाएंगे बैंक कर्मचारी

इस न्यूज़ को शेयर करे:

नई दिल्ली:- कुछ महीनो पहले सरकार ने फौज में भर्ती के लिए नया नियम लागू किया था. जिसके अनुसार फौज में 4 साल के लिए सैनिको को भर्ती किया जायेगा. अब उसी तर्ज पर देश के सरकारी बैंक भी चल पड़े है. मिली जानकारी के मुताबिक अब बैंकों में भी अग्निवीर की तरहा कॉन्ट्रेक्ट बेस पर कर्मचारी रखे जाएंगे. आपको बता दे की देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक State Bank of India अपना खर्चा कम करने के लिए मानव संसाधन संबंधित मुद्दों के लिए एक अलग कंपनी शुरू करने जा रहा है.

कॉस्ट-टू-इनकम रेश्यो कम करना चाहता बैंक

State Bank की ऑपरेशन और सपोर्ट सब्सिडियरी को हाल ही में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से सैद्धांतिक स्वीकृति मिल गई है. शुरुआत में ही कंपनी ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में बैंक शाखाओं में कर्मचारियों का प्रबंधन करेगी. मिली जानकारी के अनुसार बैंकिंग क्षेत्र के जानकारों की मानें तो यह कदम उठाकर बैंक अपना Cost-To-Income रेश्यो कम करना चाहता है, जो अभी इंडस्ट्री स्टैंडर्ड के हिसाब से बहुत ऊंचा है. ऐसा इसलिए है, क्योंकि पूरे देश में एसबीआई ने बैंक शाखाओं का एक बहुत बड़ा नेटवर्क सेट कर रखा है. चालू वित्तीय वर्ष 2022- 23 की पहली तिमाही में एसबीआई के कुल ऑपरेशन खर्च में वेतन का हिस्सा करीब 45.75 फीसदी था. सेवानिवृत्ति लाभ व अन्य प्रोविजन की हिस्सेदारी 12.4 प्रतिशत है.

दूसरे बैंक भी कर सकते हैं पहल

All India Bank Officers Association के संयुक्त सचिव DN Trivedi ने बताया कि स्टेट बैंक ऑपरेशन सपोर्ट सर्विस जिन कर्मचारियों को नियुक्त करेगी वह सभी नियुक्तियां अनुबंध के आधार पर होंगी. अनुबंध के आधार पर नियुक्त होने वाले कर्मचारियों को एसबीआई के स्थाई कर्मियों को मिलने वाले सभी लाभ नहीं मिल सकेंगे. आपको बता दे कि इस नई व्यवस्था का असर पूरी बैंकिंग इंडस्ट्री पर दिखाई पड़ेगा.

आरबीआई ने नहीं दी थी इसकी अनुमति 

एसबीआई ऑपरेशन सपोर्ट सर्विसेज भारतीय बैंकिंग जगत में अपनी तरह की पहली सब्सिडियरी होगी. हालांकि अब अन्य बैंक भी इस दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं. मिली जानकारी के मुताबिक कई बैंक पहले से ही आरबीआई के पास इस तरह की सब्सिडियरी बनाने के लिए प्रस्ताव दे चुके हैं, लेकिन तब आरबीआई ने इसकी अनुमति नहीं दी थी. लेकिन अब एसबीआई को अनुमति मिलने के बाद अन्य बैंक भी अपने पुराने प्रस्ताव को एक बार फिर आगे बढ़ाने के लिए आरबीआई से ऐसी सब्सिडियरी के लिए मंजूरी मांग सकते हैं. इस प्रकार यह अग्निवीर की तरह बैंक में एक नई योजना की शुरुवात होगी.

Sunny Singh

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम सनी सिंह है. मैं खबरी एक्सप्रेस वेबसाइट पर एडमिन टीम से हूँ. मैंने मास्स कम्युनिकेशन से MBA और दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म का कोर्स किया हुआ है. मैंने ABP न्यूज़ में भी बतौर कंटेंट राइटर काम किया है. फ़िलहाल मैं खबरी एक्सप्रेस पर आपके लिए सभी स्पेशल केटेगरी की पोस्ट लिखता हूँ. आप मेरी पोस्ट को ऐसे ही प्यार देते रहे. धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button