Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Latest NewsLifestyle

Krishna Janmashtami 2022 Date: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी कब है? इस बार बनेंगे दो शुभ योग, जानें मुहूर्त और पूजन विधि

इस न्यूज़ को शेयर करे:

Krishna Janmashtami 2022 Date:- सावन के बाद भाद्रपद का महीने का आगमन होगा. भाद्रपद में कई प्रमुख त्योहार भी आएंगे जिनमें से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी भी एक प्रमुख त्योहार है. हिंदू धर्म में कृष्ण जन्माष्टमी का विशेष महत्व रखती है. ऐसा माना जाता हैं कि भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि के साथ रोहिणी नक्षत्र में श्रीकृष्ण का जन्म हुआ था. इसलिए हर साल भादो के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को श्री कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाता है. बता दें कि जन्माष्टमी का त्योहार इस साल 18 अगस्त, गुरुवार को मनाया जाएगा.

जन्माष्टमी का शुभ मुहूर्त

बता दें कि जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण की पूजा के लिए कई शुभ मुहूर्त बन रहे हैं. इस दिन दोपहर 12 बजकर 05 मिनट से 12 बजकर 56 मिनट तक ही अभिजीत मुहूर्त रहेगा. वहीं 18 अगस्त रात 08 बजकर 41 मिनट से 19 अगस्त रात 08 बजकर 59 मिनट तक धुव्र योग बनेगा और जबकि 17 अगस्त को दोपहर 08 बजकर 56 मिनट से 18 अगस्त रात 08 बजकर 41 मिनट तक वृद्धि योग रहेगा.

जन्माष्टमी की पूजन विधि

जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण का श्रृंगार करने के बाद उन्हें अष्टगंध चन्दन, अक्षत और रोली का तिलक लगाना चाहिए उसके बाद माखन मिश्री और अन्य भोग सामग्री अर्पण करें. श्री कृष्ण के विशेष मंत्रों का जाप करना चाहिए. विसर्जन के लिए हाथ में फूल और चावल लेकर चौकी पर छोड़ें और कहें- हे भगवान् कृष्ण ! पूजा में पधारने के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद. पूजा में काले या सफेद रंग का प्रयोग बिल्कुल ना करें. वैजयंती के फूल श्री कृष्ण जी को अर्पित करना सर्वोत्तम होता है. अंत में प्रसाद ग्रहण करें और वितरण कर दें.

जन्माष्टमी का प्रसाद

श्री कृष्ण जन्माष्टमी के प्रसाद में चरणामृत का भोग अवश्य लगाएं. इसमें तुलसी दल भी अवश्य डालें. मेवा माखन और मिश्री भोग भी लगाना चाहिए. कहीं-कहीं धनिए की पंजीरी का भी अर्पण किया जाता है. पूर्ण सात्विक भोजन जिसमें तमाम तरह के व्यंजन उपलब्ध हो इस दिन श्रीकृष्ण भगवान को अर्पित किए जाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button