Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
JobsHaryana News

हरियाणा में आरक्षित वर्ग को 40 तो सामान्य को न्यूनतम 50 प्रतिशत अंक लेने पर ही मिलेगी सरकारी नौकरी

इस न्यूज़ को शेयर करे:

चंडीगढ़ :- हरियाणा में तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के पदों पर यदि आवेदको को नौकरी चाहिए है तो आवेदक को पहले हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के द्वारा आयोजित करवाई जाने वाली संयुक्त प्रवेश परीक्षा को पास करना होगा. हरियाणा में सरकारी विभागों, बोर्ड निगमों और विश्वविद्यालयों में खाली पड़े ग्रुप सी और डी के पदों पर नौकरी तभी मिल सकती है जब आप CET परीक्षा को पास कर लेते है.

संयुक्त प्रवेश परीक्षा में सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए न्यूनतम 50 प्रतिशत, अनुसूचित जाति (SC), पिछड़ा वर्ग (Bc) व अन्य पिछड़ा वर्ग (Obc) अन्य सभी आरक्षित वर्गों के लिए न्यूनतम 40 प्रतिशत अंक लेने अनिवार्य किए गए हैं. यदि किसी आवेदक को इससे कम अंक प्राप्त होते हैं तो उसे परीक्षा दोबारा देनी पड़ेगी. प्रदेश सरकार के द्वारा संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए नई संशोधित पॉलिसी की अधिसूचना जारी कर दी गई है.

ग्रुप डी के पदों के लिए आवेदक की शैक्षणिक योग्यता 10वीं और ग्रुप सी के पदों के लिए शैक्षणिक योग्यता 12वीं होनी चाहिए, साथ ही इन कक्षाओं में अभ्यर्थी के पास हिंदी या संस्कृत मे से एक विषय होना आवश्यक है. बता दे की 10वीं और 12वीं की परीक्षा देने वाले विद्यार्थी भी CET की परीक्षा मे शामिल हो सकेंगे. हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के अध्यक्ष भोपाल सिंह खदरी का कहना है कि जिन आवेदकों की सालाना पारिवारिक आय 1 लाख 80 हजार से कम है उन्ही आवेदकों को सामाजिक आर्थिक मानदंड के मिलेंगे. साथ ही उनका कहना है कि अध्यापकों की भर्ती सीईटी के अंतर्गत नहीं होगी.

CET की परीक्षा कुल 100 अंको की रहने वाली है, जिसमें सीईटी परीक्षा 95 नंबर और 5 नंबर सामाजिक आर्थिक मानदंड के रहने वाले हैं. इस तरह से यदि किसी उम्मीदवार के परीक्षा में 75 अंक आते हैं और 5 अंक सामाजिक आर्थिक मानदंड के मिलते हैं तो उसका CET का कुल स्कोर 80 होगा. यदि कोई आवेदक महिला विधवा है और जिन आवेदकों के पिता की मृत्यु उनके 15 साल होने के पहले ही हो गई थी तो उन उम्मीदवारों को सामाजिक आर्थिक मानदंड के अनुसार पांच नंबर मिलेंगे. जिस विद्यार्थी के परिवार में कोई भी सदस्य सरकारी नौकरी नहीं है उनको भी 5 अंकों का लाभ दिया जाएगा, और जो उम्मीदवार टपरीवास या विमुक्त जाति से संबंध रखते हैं उन उम्मीदवारों को भी पांच अंकों का लाभ मिलेगा.

अधिकतम मिलेंगे 4 अंक अनुभव के लिए

यदि किसी उम्मीदवार के पास किसी भी सरकारी संस्था में कार्य करने का अनुभव प्राप्त है तो उससे आयोग के द्वारा उसे प्रत्येक 6 महीने के लिए आधा अंक दिया जाएगा इस तरह उम्मीदवार को अधिकतम केवल 4 अंक अनुभव के लिए मिल सकते है. यदि कोई आवेदक आयोग के द्वारा निर्धारित सभी मानदंडों को पूरा करता है और वह सभी नंबरों को लेने का पात्र है तो उसे अधिकतम 5 प्रतिशत अंक ही से मिल सकते हैं. और हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षा में उसे केवल 2.30 प्रतिशत अंक से मिल सकेंगे. आयोग ने इन सभी सूचनाओं की अधिसूचित कर दी है|

Author Shweta Devi

मेरा नाम श्वेता है. मैं हरियाणा के भिवानी जिले की निवासी हूं. मैंने D.Ed और स्नातक तक की पढ़ाई पूरी कर ली है. वर्तमान में मै Khabri Express पर बतौर लेखक के रूप में कार्य कर रही हूं. मै सरकार के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न स्कीम, एजुकेशन और लाइफ स्टाइल से जुड़े विभिन्न कंटेंट जितनी जल्द हो सके पाठको तक पहुंचाने की कोशिश करती हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button