Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Indian Train

77 प्रतिशत बिजली संचालित हुआ इंडियन रेलवे, 8 साल में 3585 किलोमीटर नेटवर्क बना इलेक्ट्रिक

इस न्यूज़ को शेयर करे:

नई दिल्ली :- तरक्की की पटरियों पर रफ्तार भर रही भारतीय रेल अपने यात्रियों को बेहतर रेल सेवाएं देने के साथ-साथ पर्यावरण की सुरक्षा और खर्च में कटौती कर आमदनी बढ़ाने की दिशा में भी लगातार तेजी से काम कर रही है. भारत में मौजूद रेल लाइनों को तेजी से इलेक्ट्रिफाई किया जा रहा है, ताकि डीजल इंजन पर निर्भरता को खत्म किया जा सके. इस से डीजल पर खर्च होने वाली मोटी रकम तो बचे गी ही, साथ ही पर्यावरण को भी सुरक्षा मिलेगी. बताते चलें कि Indian Rail का नेटवर्क विश्व का चौथा सबसे बड़ा रेल नेटवर्क है. इंडियन रेलवे सिविल इंजीनियरिंग पोर्टल के मुताबिक भारतीय रेल की कुल लंबाई 67956 किलोमीटर है, जिसमें से 52247 रूट किलोमीटर हो गया है. यहां हम आपको बताएं कि भारत में कब कितने किलोमीटर लंबी रेल लाइन का इलेक्ट्रिफिकेशन किया गया.

रेल मंत्रालय ने जारी किए रेल लाइन Electrification के आंकड़े

रेल मंत्रालय ने अपने Social Media Account पर रेल लाइन इलेक्ट्रिफिकेशन से जुड़ी बेहद ही रोचक जानकारी शेयर की है. मंत्रालय ने भारतीय रेल के इलेक्ट्रिफिकेशन का ट्रेंड शेयर किया है, जिसमें साल 1951 से लेकर 31 जुलाई 2022 तक का ट्रैंड है. रेल मंत्रालय के मुताबिक साल 1951 से 2014 तक यानी 17 सालों में भारतीय रेल का कुल 21413 किलोमीटर रूट की इलेक्ट्रिफाई हो पाया था. जबकि साल 2014 के बाद से लेकर 31 जुलाई 2022 तक यानी करीब 8 साल में रेलवे का 3585 किलोमीटर इलेक्ट्रिफाई चुका है. इसका सीधा मतलब हुआ कि भारतीय रेल के कुल 67956 किलोमीटर लंबे नेटवर्क का 77% यानी 52247 रूट किलोमीटर रेल नेटवर्क का इलेक्ट्रिक किया जा चुका है. यही वजह है कि अब आपको डीजल से चलने वाले लोकोमोटिव इंजन बहुत कम ही देखने को मिलते हैं.

साल     रूट किलोमीटर
1951    388
1961    748
1971    3,706
1981    5,345
1991    9,968
2001   14,856
2011   19,607
2014   21,801
2019   34,319
2021   45,881
2022   52,247

80 फीसद से ज्यादा ब्रॉड गेज रेल नेटवर्क हो चुका है Electrified

बता दे कि रेल मंत्रालय देश भर में उपलब्ध रेल नेटवर्क को इलेक्ट्रिफाई करने के लिए मिशन 100% इलेक्ट्रिफिकेशन चला रहा है. इस मिशन के तहत भारतीय रेल दिन रात काम कर रही है. इसके अलावा जहां भी रेल लाइन का दोहरीकरण किया जा रहा है या जहां नई लाइन बिछाई जा रही है वहां साथ की साथ लाइन को इलेक्ट्रिफाई किया जा रहा है. 3 अप्रैल 2022 को रेल मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक देश भर में कुल 65414 किलोमीटर लंबे ब्रॉडगेज नेटवर्क का 80 फिट यानी 52247 रूट किलोमीटर का इलेक्ट्रिफिकेशन जा चुका है. भारतीय रेल का ईस्ट कोस्ट रेलवे जोन और वेस्ट सेंट्रल रेलवे जोन 100% इलेक्ट्रिफाई किया जा चुका है.

Sunny Singh

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम सनी सिंह है. मैं खबरी एक्सप्रेस वेबसाइट पर एडमिन टीम से हूँ. मैंने मास्स कम्युनिकेशन से MBA और दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म का कोर्स किया हुआ है. मैंने ABP न्यूज़ में भी बतौर कंटेंट राइटर काम किया है. फ़िलहाल मैं खबरी एक्सप्रेस पर आपके लिए सभी स्पेशल केटेगरी की पोस्ट लिखता हूँ. आप मेरी पोस्ट को ऐसे ही प्यार देते रहे. धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button