Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Sirsa NewsHaryana News

कभी इलाज, कभी फरलो तो कभी पैरोल लेकर अब तक छह बार जेल से बाहर आ चुका राम रहीम

इस न्यूज़ को शेयर करे:

सिरसा :-  डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को साध्वी यौन शोषण और पत्रकार हत्या मामले में 25 अगस्त 2017 को जेल भेजा गया था. अब वह रोहतक की सुनारिया जेल में सजा काट रहा है. इन 5 सालों के अंतराल पर डेरा प्रमुख 6 बार जेल से बाहर आ चुका है. प्रारंभ में उसने अपनी माता नसीब कौर का इलाज करवाने के लिए जेल प्रशासन से बाहर आने की अनुमति मांगी थी, लेकिन उनकी यह मांग खारिज कर दी गई. डेरा प्रमुख इलाज के बहाने से समय-समय पर रोहतक PGI में भर्ती हुआ. 7 फरवरी 2022 को डेरा प्रमुख 21 दिनों की फरलो पर जेल से बाहर आए और गुरुग्राम में नामचर्चा घर में रुके. इस दौरान उन्हें परिवार के अलावा किसी से नहीं मिलने दिया गया.

डेरे की ऑफिशियल साइट पर आकर सुनाया ऑनलाइन सत्संग 

डेरा प्रमुख 17 जून 2022 को फिर से 1 महीने की पैरोल पर जेल से बाहर आए और अबकी बार वह यूपी के बागपत जिले में बरनावा आश्रम में रुके हुए हैं. वहा से डेरा प्रमुख ने यूट्यूब पर डेरे की ऑफिशियल साइट पर आकर संगत को Online सत्संग सुनाया. जेल मंत्री रणजीत सिंह ने बताया कि कैदी को 1 साल में 70 दिन की पैरोल लेने का अधिकार है. डेरा प्रमुख ने इस साल में 30 दिन की पैरोल ले ली है और आगे उम्मीद की जा रही है कि वह साल खत्म होने से पहले ही 40 दिन की पैरोल लेकर फिर से बाहर आए.

सत्संग किया और जेल के अनुभव सुनाए

डेरा प्रमुख ने Online आकर विभिन्न राज्यों के अनुयायियों से Live आकर बातचीत की. डेरा प्रमुख के आने की खुशी में अनुयायियों ने दिए जलाए और नाचकर खुशियाँ मनाई. डेरा प्रमुख ने Live आकर लोगों को सत्संग सुनाया और लोगों को गुरु मंत्र दिया, साथ ही उन्होंने अपने सुनारिया जेल के अनुभव को भी अनुयायियों के साथ साझा किया. डेरा प्रमुख ने सत्संग के दौरान कहा कि “आप लोगों की इच्छा थी मैं जल्द बाहर आऊं, परमात्मा से मेरी प्रार्थना है कि आप की सबसे बड़ी इच्छा (जेल से परमानेंट बाहर आऊं) को परमात्मा जल्द पूरी करें “. फिलहाल बरनावा आश्रम मे डेरा प्रमुख के साथ उनका परिवार और उनकी गोद ली हुई बेटी हनीप्रीत भी उपस्थित है.

असली नकली का मुद्दा खूब गरमाया

डेरा सच्चा सौदा से जुड़े एक धड़े ने दावा किया कि जेल से बाहर आने वाला डेरा प्रमुख असली नहीं है,  क्योंकि असली डेरा प्रमुख का तो बीच रास्ते में ही अपहरण हो गया था वो जेल तक पहुंचा ही नहीं. इसी को लेकर धड़े ने High Court में याचिका भी दायर की थी जोकि Court के द्वारा खारिज कर दी गई.

Author Shweta Devi

मेरा नाम श्वेता है. मैं हरियाणा के भिवानी जिले की निवासी हूं. मैंने D.Ed और स्नातक तक की पढ़ाई पूरी कर ली है. वर्तमान में मै Khabri Express पर बतौर लेखक के रूप में कार्य कर रही हूं. मै सरकार के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न स्कीम, एजुकेशन और लाइफ स्टाइल से जुड़े विभिन्न कंटेंट जितनी जल्द हो सके पाठको तक पहुंचाने की कोशिश करती हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button