Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Panipat News

फसलों पर पड़ी कुदरत की मार, एक बार फिर धान की फसलों में आई नई बीमारी

इस न्यूज़ को शेयर करे:

पानीपत :- हरियाणा के पानीपत जिले में धान की फसलों में आई एक नई बीमारी ने किसानों को निराशा से भर दिया है. जहां एक ओर किसान अपनी फसल से उम्मीद लगाए बैठे थे, वहीं इस नई बीमारी ने किसानों की सारी उम्मीदों को तोड़ दिया है. अबकी बार किसानों की फसलों पर प्रकृति की ऐसी मार पड़ी, जिसकी वजह से धान की फसलों में नई बीमारी पैदा हो गई और धान की फसलें Growth नहीं पा रही हैं.

नवंबर महीने में शुरू हो जाती थी कटाई 

किसानों ने बताया कि इस समय तक धान की फसलो की लंबाई पूर्ण हो जाती थी, एवं उनमें फल आना भी शुरू हो जाता था, और November महीने तक फसलों की कटाई Start हो जाती थी. लेकिन नई बीमारी के पैदा होने से फसलों की न तो पूर्ण लंबाई हो पा रही है, और ना ही अभी तक फसलों पर फल आना Start हुआ है.

उचित मुआवजा देने की उठाई मांग

किसानों ने बताया कि फसलों को बीमारी से बचाने के लिए उन्होंने खेतों में अलग- अलग तरह कि दवाइयां और खरपतवार तक डाला लेकिन उसका भी फसलों पर कोई खास असर नहीं देखने को मिला. उनका कहना है कि यदि फसल की Growth ही नहीं होगी, तो फसलों पर फल भी नहीं आएगा. इसलिए उन्होंने सरकार से धान की फसल का Rate 6000 प्रति क्विंटल करने, और फसलों की गिरदावरी करके उचित मुआवजा देने की माँग की है.

डॉक्टर द्वारा सुझाए गए स्प्रे करे छिड़काव

कृषि विभाग के सहायक पौधा संरक्षण अधिकारी राजेश भारद्वाज ने बताया कि किसानों ने अपनी फसल पर आई बीमारी की सूचना उन्हें दी थी, और उन्होंने तुरंत इसकी जानकारी अधिकारियों तक पहुंचाई. अधिकारियों का कहना है कि जिले में 2 से 3 प्रतिशत धान की फसल खराब हो चुकी है. साथ ही उन्होंने किसानों से अपील करते हुए कहा कि जिस किसान की फसल में यह बीमारी आती है वह संबंधित विभाग के अधिकारियों से इसके बारे में बातचीत करें, और उनके द्वारा सुझाए गए स्प्रे का छिड़काव फसल पर करें.

Author Shweta Devi

मेरा नाम श्वेता है. मैं हरियाणा के भिवानी जिले की निवासी हूं. मैंने D.Ed और स्नातक तक की पढ़ाई पूरी कर ली है. वर्तमान में मै Khabri Express पर बतौर लेखक के रूप में कार्य कर रही हूं. मै सरकार के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न स्कीम, एजुकेशन और लाइफ स्टाइल से जुड़े विभिन्न कंटेंट जितनी जल्द हो सके पाठको तक पहुंचाने की कोशिश करती हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button