Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Panchkula News

हरियाणा के सरकारी स्कूल के बच्चों पर मंडराया पोषण संकट, 16.91 लाख बच्चे प्रभावित

इस न्यूज़ को शेयर करे:

पंचकुला :- बच्चों को पूर्ण पोषण देने के लिए सरकार ने 15 अगस्त 1995 में Mid- Day- Meal योजना की शुरुआत की थी. मिड डे मील योजना के तहत ही हरियाणा सरकार ने प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले पहली से 8वीं कक्षा तक के लगभग 16.91 लाख बच्चों को सप्ताह में 3 दिन तक प्रतिदिन 20 ग्राम फ्लेवर्ड दूध पिलाना अनिवार्य किया गया था. April- May महीने में स्कूलों में दूध पहुंचा था, उसके बाद से ही वेंडर्स के द्वारा सूखे पाउडर की आपूर्ति नहीं की जा रही है. अब फिर से October महीने की शुरुआत से ही दूध का वितरण शुरू हुआ है.

3 महीने से नहीं हो पा रही सूखा दूध पाउडर की आपूर्ति 

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार स्कूलों में दूध पहुंचाने का कार्य वेंडरो के द्वारा किया जाता है, वेंडर्स बजट मिलने के बाद ही स्कूलों में Vita दूध का पाउडर पहुंचाते हैं. लेकिन पिछले 3 महीनों से स्कूलों में 1218 टन से ज्यादा सूखे दूध की आपूर्ति नहीं हो पा रही है, लेकिन मुख्यालय को यह Report दे दी गई कि स्कूलों में बच्चों को दूध पिलाया जा रहा है. बच्चों को प्रतिदिन 4.97 रुपये और 7.45 रुपए के हिसाब से कुकिंग Cost अप्रैल 2020 में लागू की गई थी. आज इस कीमत पर बच्चों को Mid- Day- Meal देना शिक्षकों के लिए गले की फांस बन कर रह गया है.

महंगाई बनी अध्यापकों के लिए बना गले की फांस 

आज से लगभग 2.5 वर्ष पूर्व खाद्य पदार्थों की कीमतें काफी कम हुआ करती थी, परंतु आज यह कीमते दोगुनी हो चुकी हैं. पहले गैस सिलेंडर 594 रुपये का होता था परंतु आज कीमते बढ़कर 1079 रुपए तक पहुंच गई है. शिक्षा निदेशालय मे मिड डे मील के महाप्रबंधक संजीव कुमार ने वेंडरों से Vita दूध पाउडर की आपूर्ति रिपोर्ट से Data तलब किया है. उन्होंने कहा कि स्कूलों में समय पर दूध की आपूर्ति सुनिश्चित कराई जाती है, हो सकता है कि वेंडर स्तर पर ही कोई दिक्कत हुई हो.

समय-समय पर होना चाहिए स्कूलों का बजट जारी 

राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ के महासचिव सुनील बास ने कहा कि समय-समय पर स्कूलों का बजट जारी किया जाना चाहिए, ताकि स्कूलों में समय पर सूखा दूध पाउडर की आपूर्ति हो सके. खाद्य पदार्थों की कीमतें लगातार बढ़ रही है इसलिए प्रति विद्यार्थी कुकिंग लागत 3 रुपये तक बढ़ाई जानी चाहिए.

जिले के हिसाब से प्राइमरी मिडिल स्कूलों में बच्चों की संख्या 

 जिला            प्राइमरी     मिडिल      कुल

भिवानी           40357    26824    67181
चरखी दादरी    13797    9301      23098
अंबाला           32741    22286    55027
हिसार            60519     39894   100413
गुरुग्राम          64141     39931   104072
फरीदाबाद      59612     32908    92520
फतेहाबाद      47707     31442    79149

Sunny Singh

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम सनी सिंह है. मैं खबरी एक्सप्रेस वेबसाइट पर एडमिन टीम से हूँ. मैंने मास्स कम्युनिकेशन से MBA और दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म का कोर्स किया हुआ है. मैंने ABP न्यूज़ में भी बतौर कंटेंट राइटर काम किया है. फ़िलहाल मैं खबरी एक्सप्रेस पर आपके लिए सभी स्पेशल केटेगरी की पोस्ट लिखता हूँ. आप मेरी पोस्ट को ऐसे ही प्यार देते रहे. धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
PAK VS NZ T20 WC 2022 Playing 11: सेमाीफाइनल मुकाबले में ऐसी हो सकती है न्यूजीलैंड और पाकिस्तान की प्लेइंग 11 ये हैं भारत की सबसे ज्यादा फीचर्स वाली टॉप-5 सीएनजी कारें, Top CNG Cars ICC T20 World Cup 2022: India vs England सेमीफाइनल मुकाबले से पहले बुरी खबर, यह स्टार खिलाड़ी हुआ चोटिल