Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Palwal News

ये है बिना कैश काउंटर वाला अस्‍पताल, मरीजों को मिलता है इलाज, खाना सब फ्री

इस न्यूज़ को शेयर करे:

पलवल :- कुछ बच्चे जन्म से ही अपने साथ गंभीर बीमारियां लेकर आते हैं. कुछ नवजात दिल की बीमारी के साथ ही पैदा होते हैं जो उनके लिए और पूरे परिवार के लिए एक बड़ी समस्या होती है. लेकिन आपको बता दें कि देश में एक ऐसा हॉस्पिटल है जो ऐसे बच्चों के लिए वरदान साबित हो रहा है. इस हॉस्पिटल में आने वाले बीमार बच्चों को न सिर्फ दवाई इलाज जांच और Surgery मुफ्त में मिलती है बल्कि बच्चों के साथ आने वाले माता-पिता और अन्य सदस्यों का रहना खाना भी अस्पताल द्वारा ही किया जाता है.

सब कुछ मिलता है फ्री 

इस हॉस्पिटल में एक भी Cash Counter नहीं है यहां किसी भी चीज के लिए आपको पैसे नहीं देने पड़ेंगे. यह अस्‍पताल हरियाणा के पलवल के बघोला में है जिसका नाम श्री सत्य साई संजीवनी चिकित्सालय है. आंकड़ों की बात करें तो हमारे देश में हर साल दो लाख 40 हजार नवजात बच्‍चे ह्रदय संबंधी बीमारियों के साथ जन्म लेते हैं. चूंकि बच्‍चों के होने के कारण इसकी जानकारी देरी से मिल पाती है ऐसे में कुछ वक़्त में यह गंभीर रूप ले लेता है. लिहाजा ज्‍यादातर मामलों में विशेषज्ञों के द्वारा इलाज और सर्जरी की आवश्यकता होती है. वहीं ग्रामीण इलाकों में जागरुकता की कमी, आर्थिक रूप से कमजोर स्थिति और डॉक्‍टरों तक पहुंच कम होने के कारण ज्‍यादातर बच्‍चों को समय पर इलाज उपलब्ध नहीं हो पाता. Private अस्‍पतालों में दिल की बीमारियों के इलाज का खर्च एक बड़ी समस्या है. ऐसे में ये अस्‍पताल काफी राहतदायी है.

आधुनिक तकनीकी उपकरण मौजूद 

संजीवनी अस्पताल के Managing डायरेक्टर डॉ सी श्रीनिवास ने मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि भारत में इसी तरह के दो और अस्‍पताल भी है जो हृदय रोगों से लड़ रहे बच्चों को सहायता देते हैं. इनमें से एक रायपुर और दूसरा महाराष्‍ट्र के नवी मुंबई में है. इस अस्‍पताल में दिल के रोगों से संबंधित सभी आधुनिक और बेहतरीन किस्‍म की मशीनें और उपकरण उपस्थित है. यहां तक कि जो सुविधाएं इस अस्‍पताल में हैं ऐसी कई सुविधाएं Multi Super स्‍पेशलिटी अस्‍पतालों में भी नहीं मिलती.

किसी भी कोने से आ सकते है मरीज 

यहां भारत के किसी भी कोने से मरीज आ सकते हैं, सभी को इलाज मुहैया कराया जाता है. यहां इनवेसिव और नॉन इनवेसिव (कैथ हस्‍तक्षेप) दोनों ही प्रकार की सर्जरी की जाती हैं. डॉ. सी श्रीनिवास ब‍ताते हैं कि यह Hospital पूरी तरह निशुल्‍क है और अब लोगों को इसके बारे में जानकारी मिलने लगी है तो जहां प्रतिदिन भीड़ लगी रहती है. अस्पताल की क्षमता के अनुसार रोज 125 से 150 मरीज बच्‍चों को भर्ती किया जा सकता है लेकिन ऐसी व्‍यवस्‍था की गई है कि इससे ज्‍यादा मरीज आने पर उनका अगले दिन का नंबर लगा दिया जाता है और उन्‍हें टोकन दे दिया जाता है. वहीं अगर कोई मरीज Emergency की हालत में आता है तो उसे तुरंत भर्ती किया जाता है.

साथ आने वाली माताओं को भी दी जाती है ट्रेनिंग 

इसी प्रकार की व्‍यवस्‍था भारत के अलावा पाकिस्तान, अफगानिस्तान, नेपाल, बांग्लादेश, श्रीलंका, फिजी, उज़्बेकिस्तान, नाइजीरिया, लाइबेरिया, यमन, इथियोपिया, रवांडा, कंबोडिया तथा इराक के कुर्दिस्तान जैसे इलाकों से आए बाल्य ह्रदय रोगियों के लिए भी है. यहां दिल के विशेषज्ञ डॉक्‍टर तो इलाज करते ही हैं साथ आने वाली माताओं को भी मातृछाया नाम से चलाए जाने वाले कार्यक्रम में विशेष प्रशिक्षण दिया जाता है ताकि दिल की सर्जरी होने के बाद वे बच्‍चे की उचित तरह से देखभाल कर सकें. चूंकि ज्‍यादातर माएं बच्‍चों को इलाज के लिए अस्‍पताल लेकर तो आती हैं लेकिन उन्हें इस बीमारी के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती. लिहाजा उन्‍हें इसकी पूरी जानकारी दी जाती है.

डॉ. श्रीनिवास कहते हैं कि इस अस्‍पताल में जन्‍म से दिल की बीमारियों से जूझ रहे सभी मरीजों का स्‍वागत है. इस हॉस्पिटल का लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा बच्चों को बीमारी से मुक्त करना है. साथ ही इस बीमारी के कारणों का पता लगाकर इसे बढ़ने से रोकने के लिए Specialist भी अपना काम कर रहे हैं. ताकि लोगों को बच्‍चों के जन्‍म से पहले ही बताया जा सके कि वे किन चीजों का ध्‍यान रखें ताकि बच्‍चे जब पैदा हो तो बिल्कुल स्वस्थ दिल के साथ हो.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
PAK VS NZ T20 WC 2022 Playing 11: सेमाीफाइनल मुकाबले में ऐसी हो सकती है न्यूजीलैंड और पाकिस्तान की प्लेइंग 11 ये हैं भारत की सबसे ज्यादा फीचर्स वाली टॉप-5 सीएनजी कारें, Top CNG Cars ICC T20 World Cup 2022: India vs England सेमीफाइनल मुकाबले से पहले बुरी खबर, यह स्टार खिलाड़ी हुआ चोटिल