Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Kaithal News

हरियाणा में अध्यापकों की कमी, चपरासी और पीटीआई टीचर्स के कंधो पर बच्चो का भविष्य

इस न्यूज़ को शेयर करे:

कैथल :- आपको बता देंं कि हरियाणा में शिक्षा विभाग की Online तबादला प्रणाली से जिले के कई School में कुर्सियां खाली पड़ी हैं. Post Kept करने की वजह से कई Medial स्कूलों में अभी तक Teachers नहीं मिले हैं. अभिभावक व विद्यार्थी स्कूलों के बाहर प्रदर्शन करने पर मजबूर हो रहे हैं, क्योंकि बिना शिक्षक विद्यार्थियों का भविष्य खतरे में है. शिक्षकों की नियुक्ति न होने की वजह से सरकारी स्कूलों में चपरासी, ड्राइंग टीचर व PTI के भरोसे स्कूल चल रहे हैं. बताया जा रहा है कि जिले में 5 हजार अध्यापकों में से करीब 800 अध्यापकों का तबादला हुआ है. मैनुअली कार्य तो पूरा हो चुका है मगर MIS Portal में शिक्षक उलझे हुए हैं. जिसकी वजह से जिले में कई स्कूलों के हालत  खराब हो रही हैं.

शिक्षकों की कमी के कारण जूझ रहे स्कूल

बता दें कि शिक्षकों की कमी से जूझ रहे हैं बहुत से स्कूल. शिक्षा विभाग में लंबे समय से JBT से लेकर PGT, TGT व स्कूल मुखियाओं की कुर्सियां खाली पड़ी है. इन सभी पदों को भरने के लिए शिक्षा निदेशालय की तरफ से Online Transfer पालिसी व रेशनेलाइजेशन को सहारा बनाया जा रहा है . स्कूलों में प्राचार्यों के पद खाली होने की वजह से स्कूलों में वरिष्ठ प्राध्यापक स्कूलों को संभाल रहे हैं. पूरे जिले में लगभग 600 सरकारी स्कूल है जिनमें साढे 5 हजार शिक्षकों के पद स्वीकृत हैं.

लगभग 800 शिक्षक हुए इधर से उधर

Report के मुताबिक आनलाइन तबादला प्रणाली के तहत जिले के लगभग 800 शिक्षक इधर से उधर हुए हैं. इनमें प्राचार्य, हेडमास्टर, टीजीटी व पीजीटी शिक्षक शामिल हैं. नियम के अनुसार तो मिडिल स्कूलों में पांच शिक्षक होना अनिवार्य है. जानकारी के अनुसार तो जिले में साढे पांच हजार शिक्षक कार्यरत होने चाहिए. लेकिन इनमें से अभी भी आधे पद खाली हैं. हालांकि जिला मुख्यालय के पास अभी एमआइएस पोर्टल के माध्यम से अपडेशन सूची नहीं पहुंची है.

जिले भर में विद्यार्थियों की संख्या का विवरण 

जिले में इस समय सरकारी विद्यालयों में 1 लाख 14 हजार 751 विद्यार्थी हैं. इनमें कक्षा 1 से 5 तक 44 हजार 787 विद्यार्थी हैं. जिसमें 22 हजार 175 लड़कियां व 22 हजार 612 लड़के हैं. इसी प्रकार कक्षा 6 से 8 तक 31 हजार 438 विद्यार्थी हैं. इनमें 15 हजार 951 लड़कियां व 15 हजार 487 लड़के शामिल हैं. 9 नौ से 12 तक 38 हजार 526 विद्यार्थी हैं. इनमें 20 हजार 167 लड़कियां व 18 हजार 359 लड़के शामिल हैं.

बहुत से स्कूलों में आधे से ज्यादा पद हैं खाली

आपको बता दें कि पूंडरी खंड के कई स्कूलों में काफी पद खाली पड़े हैं. इसके साथ ही राजौंद के राजकीय विद्यालय में 800 विद्यार्थियों को केवल 3 से 4 अध्यापक पढ़ा रहे हैं. इसी प्रकार सीवन के राजकीय संस्कृति माडल विद्यालय में 45 पद हैं, जिनमें से 25 पद तो खाली पड़ी है. राजकीय कन्या विद्यालय सीवन में सामाजिक अध्ययन विषय के दो पद खाली हैं.

जल्द ही होने वाली है अर्द्धवार्षिक परीक्षा, पर स्कूलों में अध्यापक नहीं

बताया जा रहा है कि शिक्षा विभाग की तरफ से हर वर्ष आयोजित होने वाली अर्द्धवार्षिक परीक्षा इस बार 29 September से होने जा रही है. लेकिन स्कूलों में अध्यापकों की कमी होने की वजह से विद्यार्थियों की पढ़ाई को काफ़ी नुखसान हो रहा है. जिससे विद्यार्थियों की चिंता बढ़ना लाजमी है.

शिक्षकों की कमी को लेकर मुख्यालय को कराया गया अवगत

जिला शिक्षा अधिकारी शमशेर सिंह सिरोही जी का कहना है कि Online तबादला प्रणाली के चलते स्कूलों में थोड़ी अव्यवस्था तो हुई है. लेकिन अभी आनलाइन प्रक्रिया जारी है. जैसे ही प्रक्रिया पूरी हो जाएगी, स्कूलों में शिक्षक भी नियमित तौर पर आने से Start हो जाएंगे. उन्होंने यह भी बताया कि शिक्षकों की कमी को लेकर मुख्यालय को अवगत कराया जा चूका है.

Author Romiyo

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रोमियो परमार है. मैं खबरी एक्सप्रेस पर 2022 से बतौर कंटेंट राइटर का काम कर रही हूँ. मैंने बी.ए, एम.ए तक पढ़ाई की है. मैं सभी पाठकों तक लाइफस्टाइल से जुड़ी हुई खबरें पहुंचाती हूँ. आप तक हर खबर सही और सबसे पहले पहुंचे यही मेरा सर्वोत्तम उद्देशय है. मैं अपनी पूरी लगन और मेहनत से आप तक हर खबर पहुंचने में तत्पर हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button