Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Hisar NewsHaryana News

खुशखबरी: हरियाणा क़े इन 42 गांव जगमग योजना में होंगे शामिल, 24 घंटो होगी बिजली सप्लाई

इस न्यूज़ को शेयर करे:

हिसार :-  हिसार के बिजली निगम अधिकारियों की निगम के MD और चीफ के साथ VC से बैठक हुई. इस बैठक के दौरान कहा गया कि हिसार सर्कल में 27 फीडरो में आने वाले 42 गांवो को जगमग योजना में शामिल करके जल्द ही इन पर कार्य शुरू किया जाएगा. इसके बाद गावों को लगातार 24 घंटो तक बिजली मिल सकेगी, और शेष गांवों को भी जल्द ही इस Yojana में शामिल किया जाएगा. जगमग Scheme पर लगभग 33 करोड़ रुपए तक का ख़र्च आएगा. इस बैठक के दौरान बिजली निगम को जल्द ही कार्य शुरू करने के आदेश दिए गए. बिजली Nigam ने ऐसे गांवों की पहचान की है जिसमें License 25 प्रतिशत से भी कम है. जगमग योजना के तहत जल्द ही इन गांवो में कार्य शुरू कर दिया जाएगा. निगम का उद्देश्य है कि वह सभी गांवों को 24 घंटे तक बिजली प्रदान करवा सके.

जगमग योजना क्या है 

जगमग योजना के तहत गांव में Normal तारों की बजाए केबल तारे लगाई जाती है. मीटर घरों के अंदर न लगाकर मीटरिंग कवर बॉक्स (MCB) में लगाए जाते हैं. इस तरिके से बिजली चोरी होने की संभावना कम हो जाती है. ये सभी कार्य पूरे होने के बाद SDO की टीम के द्वारा एक रिपोर्ट तैयार की जाती है, जिसमें यह देखा जाता है कि गांव के सभी उपभोक्ता बिजली बिल को समय पर भरते हैं या नहीं. बिजली की कितनी खपत होती है, कितनी बिजली सप्लाई की जाती है, कितनी बिजली चोरी होती है, और कितनी आय होती है. इन्हें ध्यान में रखकर ही टीम रिपोर्ट तैयार करती है.

जगमग योजना Data

  • जगमग योजना के तहत 299 गांव शामिल किए गए.
  • जगमग योजना के तहत 84 गांव में 38 फीडर पर कार्य जारी है.
  • 110 गांव में 43 फिटर पर जगमग योजना का कार्य पूरा हो चुका है.
  • जगमग योजना के तहत 92 गांव में 42 फीडर पर कार्य करना अभी बाकी है.

Author Shweta Devi

मेरा नाम श्वेता है. मैं हरियाणा के भिवानी जिले की निवासी हूं. मैंने D.Ed और स्नातक तक की पढ़ाई पूरी कर ली है. वर्तमान में मै Khabri Express पर बतौर लेखक के रूप में कार्य कर रही हूं. मै सरकार के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न स्कीम, एजुकेशन और लाइफ स्टाइल से जुड़े विभिन्न कंटेंट जितनी जल्द हो सके पाठको तक पहुंचाने की कोशिश करती हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button