Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Haryana NewsLifestyle

हरियाणा में मिली एक और हाईवे की सौगात, इन जिलों के साथ गांवों को मिलेगी ये खास सुविधा

इस न्यूज़ को शेयर करे:

चंडीगढ़ :- दक्षिण हरियाणा को उत्तर हरियाणा से जोड़ने वाले इस एक्सप्रेस वे का नाम ग्रीन फील्ड कोरिडोर रखा गया है. बता दे कि इसकी कुल लंबाई 227 किलोमीटर है. प्रदेश के 8 जिलों से होकर गुजरने वाले इस ग्रीन फील्ड कोरिडोर का सफर काफी आरामदायक होगा. अभी तक इस नए हाईवे के निर्माण का 90% कार्य पूरा हो चुका है.

जून में शुरू होगा ग्रीन फील्ड कॉरिडोर 

इस प्रोजेक्ट को कुल 8 हिस्सों में बांटा गया है. ऐसे में कुल 8 राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तर की कंपनियां एनएचएआई के तहत कार्य कर रही है. सभी कंपनियों ने अलग-अलग 20 से 35 किलोमीटर तक का निर्माण कार्य किया है. पहला पैकेज इस्माइलाबाद से ढांड (Ismailabad to Dhand) , दूसरा पैकेज ढांड से राजौंद (Dhand to Rajound), तीसरा पैकेज राजौंद से खेड़ी जींद(Rajound to Khedi Jind) , चौथा पैकेज खेड़ी जींद से जुलाना जींद (julana from jind) , पांचवां जुलाना से खरकड़ा रोहतक (Julana to Kharkra Rohtak), छठा पैकेज खरकड़ा रोहतक से चरखी दादरी (Kharkra Rohtak to Charkhi Dadri,) , सातवां पैकेज चरखी दादरी से कनीना महेंद्रगढ़ (Dadri to Kanina Mahendragarh), कनीना महेंद्रगढ़ से नारनौल तक है.

सन 2018 में इस कॉरिडोर की घोषणा की गई थी, इसी के तहत 1826 एकड़ जमीन का अधिग्रहण भी किया गया था. जिस पर 529 करोड रुपए खर्च किए गए थे. 14 जुलाई 2020 को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने इसका शिलान्यास किया था. इस कॉरिडोर को बन कर साल 2021 के अंत तक तैयार होना था,  परंतु भिवानी जिले के गांव खातीवास क्षेत्र में जमीन अधिग्रहण को लेकर विवाद बन गया और कोरोना की वजह से भी इसमें देरी हुई. बाद में इस कॉरिडोर की अवधि बढ़ाकर फरवरी 2022 और मार्च 2022 तक कर दी गई.

अब लग रहा है कि यह कोरिडोर जून तक बनकर तैयार हो जाएगा. अंबाला कोटपुतली कोरिडोर तीन राज्यों में उद्योग के सामान और यात्री यातायात के लिए सीधी कनेक्टिविटी प्रदान करेगा. बता दें कि शहरों में भीड़ कम करने के उद्देश्य से सरकार ने ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे प्रयोजना की योजना बनाई. यह एक्सप्रेसवे अंबाला और जयपुर के बीच की दूरी और यात्रा के समय को भी कम कर देगा. भिवानी जिले के लोग इस कोरिडोर को महम अथवा खरखड़ी मोड़ से पकड़ सकते हैं. इस एक्सप्रेस-वे पर गति सीमा 120 किलोमीटर प्रति घंटा होगी. जिस वजह से खरखड़ी इस्लामाबाद का सफर महज 1 से सवा घंटे में पूरा हो जाएगा. वही भिवानी से चंडीगढ़ भी महज 3:00 से 3:30 घंटे में पहुंचा जा सकेगा, अभी इसमें 5 घंटे से अधिक का समय लगता है.

Author Meenu Rajput

नमस्कार मेरा नाम मीनू राजपूत है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर बतौर कंटेंट राइटर काम करती हूँ. मैंने बीकॉम, ऍम कॉम तक़ पढ़ाई की है. मैं प्रतिदिन हरियाणा की सभी ब्रेकिंग न्यूज पाठकों तक पहुंचाती हूँ. मेरी हमेशा कोशिश रहती है कि मैं अपना काम अच्छी तरह से करू और आप लोगों तक सबसे पहले न्यूज़ पंहुचा सकूँ. जिससे आप लोगों को समय पर और सबसे पहले जानकारी मिल जाए. मेरा उद्देशय आप सभी तक Haryana News सबसे पहले पहुँचाना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button