Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Fatehabad News

जल्द ही बिकने जा रही है 155 एकड़ में बनी भुना चीनी मील, किसानो का 83 करोड़ से अधिक बकाया

इस न्यूज़ को शेयर करे:

भूना :- वाहिद संधार चीनी मिल (Wahid Sandhar Sugars Ltd.) भूना की 154 एकड़ 6 कनाल 12 मार्ले भूमि को 8 सितंबर को कुर्क करने के दिशा- निर्देश दिए गए हैं. पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय (High court) के आदेश (Order) पर उपायुक्त फतेहाबाद ने नायब तहसीलदार भूना के माध्यम से भूमि मालिकों को नोटिस जारी किया है और प्रिंट मीडिया में सार्वजनिक विज्ञापन नोटिस (Public Advertisement Notice) भी प्रकाशित किया गया था.

155 एकड़ जमीन पर बनी थी सहकारी चीनी मिल

आपको बता दें कि सहकारी चीनी मिल करीब 155 एकड़ जमीन पर बनी थी. जिसकी आधारशिला 1989 में पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय देवी लाल ने रखी थी. जबकि पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय भजनलाल ने 1992 में गन्ना उगाने वाले किसानों को बड़ी राहत दी थी. क्योंकि फतेहाबाद और हिसार और सिरसा के हजारों गन्ना उत्पादक किसानों को चीनी मिल से प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से पूरा लाभ मिल रहा था, लेकिन 2006 में तत्कालीन मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह (Chief Minister Bhupendra Singh) हुड्डा की सरकार ने सहकारी चीनी मिल भूना को पंजाब की एक फर्म को महज 41 करोड़ में बेच दिया.

जानिए क्या था अतीत ?

वाहिद संधार चीनी मिल फगवाड़ा की फर्म ने मात्र 2 वर्ष चलने के बाद चीनी मिल को निष्क्रिय घोषित कर वर्ष 2008 में बंद कर दिया था. गन्ना उगाने वाले किसानों ने लंबा धरना और विरोध प्रदर्शन किया और अधिकारियों और मंत्रियों को ज्ञापन भी दिया. लेकिन मिल नहीं चल पाई. गन्ना उत्पादकों की चुप्पी के बाद वर्ष 2020 में वाहिद संधार चीनी मिल की मशीनरी व अन्य सामान धीरे-धीरे उखड़ गया. हालांकि इस दौरान किसानों ने इसका विरोध कर हंगामा भी कर दिया, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई इसलिए करीब एक दर्जन किसानों ने पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट (Haryana High Court) में जनहित याचिका दायर की थी.

154 एकड़ 6 कनाल 12 मरला जमीन कुर्क करने के आदेश

उक्त याचिका में उल्लेख किया गया था कि सरकार और निजी फर्म के बीच मिल चलाने की शर्त रखी गई थी. वहीं, मिल के शेयरधारक किसानों ने भी याचिका में अपने शेयर (Share) वापस लेने का हवाला दिया था. निजी मिल मालिकों ने माननीय उच्च न्यायालय में तर्क दिया कि सहकारी चीनी मील भूना की खरीद के बाद फगवाड़ा मील से जुड़े किसानों को गन्ने का भुगतान नहीं कर सकती हैं. इसलिए 83 करोड़ से अधिक की देनदारी के चलते वाहिद सुंदर चीनी मिल भूना की 154 एकड़ 6 कनाल 12 मरला जमीन कुर्क करने के आदेश दिए गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button