Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Haryana NewsLifestyle

बड़ी घोषणा: हरियाणा में गोशालाओं के साथ मिलकर ये काम करने वाले किसानों को मिलेंगे इतने रूपए

इस न्यूज़ को शेयर करे:

चंडीगढ़ :- हरियाणा के कृषि, पशुपालन एवं डेयरी मंत्री जेपी दलाल ने जिला उपायुक्तों को मानसून से पहले प्रत्येक गोशाला में पर्याप्त चारा उपलब्ध है इसे सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि इसके लिए उपायुक्तों व विभागीय अधिकारियों को मिलकर अच्छे प्रयास करने होंगे. दलाल ने कहा कि प्रदेश में किसी भी हालत में पशुचारे की कमी न होने पाए.जिस भी जिले में चारे के स्टाक की कमी है, वहां उसे पूरा करने के इंतजाम किए जाएं. मंत्री ने कहा है कि यदि किसान गोशालाओं के साथ मिलकर हरे चारे का उत्पादन करते हैं तो उन्हें सरकार की ओर से प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी. इसके लिए उपायुक्तों को योजनाएं तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं.

कृषि एवं पशुपालन मंत्री जेपी दलाल ने मंगलवार को वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से चरखी दादरी, भिवानी, रेवाड़ी और महेंद्रगढ़ समेत कई जिलों के उपायुक्तों के साथ बैठक आयोजित की. इस दौरान गोशालाओं में चारे की उपलब्धता की समीक्षा की गई. दलाल ने उपायुक्तों को निर्देश दिए कि किसी भी गोशाला में चारे की कमी न होने दी जाए. लोगों को अधिक से अधिक चारा दान करने के लिए आमजन को प्रोत्साहित किया जाना चाहिए. पशुपालन मंत्री ने कहा कि चारे की अंतर जिला आवाजाही पर किसी प्रकार की कोई रोक नहीं है. सभी जिले आपसी तालमेल के साथ चारे की उपलब्धता सुनिश्चित करवा सकते हैं. सरकार ने चारे की अंतर राज्यीय आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया है, ताकि पहले राज्य की गोशालाओं में चारे की मांग पूरी हो सके.

जेपी दलाल ने का कहना है कि मुख्यमंत्री मनोहर लाल पशुओं के लिए चारे की व्यवस्था को लेकर गंभीर हैं. उन्होंने अन्य राज्यों से आने वाले चारे की निगरानी के लिए एक नोडल अधिकारी नियुक्त करने की सलाह दी और कहा कि प्रतिदिन चारे की खरीद व बिक्री पर निगरानी रखी जाए. साथ ही यह भी सुनिश्चित करें कि अन्य जिलों से चारा लाने वाले वाहनों को आने-जाने में किसी तरह की परेशानी न हो. यदि किसान गोशालाओं के समन्वय से हरे चारे की बिजाई के लिए पहल करते हैं तो उन्हें प्रोत्साहन राशि देने पर विचार किया जाना चाहिए. इसके लिए जिला उपायुक्त अपने यहां से योजना तैयार कर सरकार के पास भेज सकते हैं.

पशुपालन मंत्री ने बताया कि इस बार अधिकतर किसानों ने गेहूं के स्थान पर सरसों की बुवाई ज्यादा की है. इसलिए चारे की कमी पैदा हो गई है. बैठक में सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देवेंद्र सिंह, पशुपालन एवं डेयरी विभाग के आयुक्त एवं सचिव पंकज अग्रवाल समेत कई विभागीय अधिकारियो ने भी बैठक में हिस्सा लिया.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button