Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Faridabad News

यमुना नदी में बाढ़ के पानी को सुरक्षित रखने की तैयारी, एक छोर से दूसरे छोर तक बनेगी दीवार

इस न्यूज़ को शेयर करे:

फ़रीदाबाद :- यमुना नदी में बाढ़ के पानी को संरक्षित करने की तैयारी की जा रही है. बारिश के वक़्त यमुना नदी का Water Level बढ़ जाता है. हर साल पानी बहकर आगे चला जाता है. फरीदाबाद महानगर विकास प्राधिकरण (FMDA) इस पानी को सरंक्षित करने की दिशा में काम कर रहा है. इसके लिए किनारे लगे हुए करीब 35 गांव में बाढ़ प्रभावित जगह पर गहरे तालाब बनाने और मोहना के पास यमुना नदी में Cemented परत बनाने का Plan बनाया गया है.

जितनी ऊँची परत होगी, उतना पानी रहेगा 

ये परत छोटे बांध की तरह होगी. दोनों योजनाओं का लक्ष्य यमुना नदी किनारे भूजल स्तर को बढ़ाना है. क्योंकि यमुना नदी किनारे 10 रेनीवेल लगे हुए हैं जिनका भूजल स्तर (Water Level) हर साल गिरता रहा है. अभी 10 और रेनीवेल लगेंगे, इसलिए जमीन के नीचे पर्याप्त पानी होना आवश्यक है. बता दें जिले में यमुना नदी 40 किलोमीटर बहती है. मोहना के पास यमुना नदी की गहराई में एक छोर से दूसरे छोर तक दो मीटर ऊंची Wall बनाई जाएगी. जितनी ऊंची परत होगी, उतना ही पानी यमुना नदी में डटा रहेगा. यह पानी आगे बढ़ने से पहले आसपास अधिक फैलेगा.

भूजल स्तर बढ़ने की संभावना 

सालभर यहां पानी जमा होने से रेनीवेल के साथ आसपास के गांव के भूजल स्तर पर भी इसका Positive इफ़ेक्ट होगा. फिलहाल यमुना नदी के कारण दोनों ओर सवा किलोमीटर तक भूजल स्तर पर Effect पड़ता है. लेकिन परत डाले जाने के बाद इसका क्षेत्र लगभग एक किलोमीटर और बढ़ जाएगा. यानी यमुना नदी के दोनों ओर सवा दो किलोमीटर तक दूरी पर बसे गांव में भूजल स्तर बढ़ने की संभावना रहेगी. यमुना नदी किनारे बसे हुए गांव में पंचायती जमीन की तलाश जोर-शोर से चल रहीं है.

बड़े और गहरे तालाब किये जा रहें है तैयार 

इस जमीन पर बड़े और गहरे तालाब तैयार किये जायेंगे. तालाब ऐसी जगह बनेंगे, जहां यमुना नदी के बढ़े हुए जलस्तर का पानी सरलता से पहुंच पाए. इस पानी से तालाब भर जाएंगे. सालभर तालाब में पानी होगा तो इससे भूजल स्तर भी अच्छा रहेगा. यमुना नदी किनारे फिलहाल बोर करने पर 80 से 100 फुट पर पानी मिल जाता है. लेकिन साल दर साल यह नीचे जा रहा है. करीब पांच साल पहले 60 फुट पर पानी निकल आता था. रेनीवेल भी Capacity के अनुसार पानी नहीं दे पा रहे हैं. शहर में पीने के पानी की परेशानी रहती है. वर्षा के दौरान ही यमुना नदी का जलस्तर बढ़ता है. इससे भूजल स्तर भी उठता है. बाकी महीनों में यमुना नदी में बहुत कम पानी रहता है. FMDA अधिकारी चाहते हैं कि ऐसी जगह रेनीवेल लगाए जाएं, जहां दो दशक तक भूजल स्तर वैसा ही बना रहे. इसलिए सबसे पहले भूजल स्तर बढ़ाने की दिशा में काम किया जा रहा है.

 

FMDA के मुख्य अभियंता, ND वशिष्ट का कहना है कि यमुना नदी किनारे बसे हुए गांव की पंचायती जमीन की जानकारी जिला विकास एवं पंचायत अधिकारी से मांगी गई है. पूरी जानकारी आने के बाद तालाब बनाने वाली जगह चुनी जाएगी. इसके अलावा मोहना के पास बांध रूपी परत डालने के बारे में भी सर्वे हो रहा है. जल्द ही इस दिशा में काम की शुरुआत की जाएगी.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
PAK VS NZ T20 WC 2022 Playing 11: सेमाीफाइनल मुकाबले में ऐसी हो सकती है न्यूजीलैंड और पाकिस्तान की प्लेइंग 11 ये हैं भारत की सबसे ज्यादा फीचर्स वाली टॉप-5 सीएनजी कारें, Top CNG Cars ICC T20 World Cup 2022: India vs England सेमीफाइनल मुकाबले से पहले बुरी खबर, यह स्टार खिलाड़ी हुआ चोटिल