Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Charkhi Dadri News

चरखी दादरी ने अन्य जिलों के लिए पेश की मिसाल, 1000 से पार हुआ लिंगानुपात

इस न्यूज़ को शेयर करे:

चरखी दादरी :- लिंगानुपात में हरियाणा के चरखी दादरी जिले के 64 गांवों ने पूरे देश के अन्य गांवों के लिए मिसाल पेश की है. ये वो गांव हैं जिनमें जागरूकता के कारण पिछले 9 महीने में Sex Ratio एक हजार से ऊपर है. नौसवा ऐसा गांव है जहां बेटों के मुकाबले इस साल आठ गुना ज्यादा बेटियों ने जन्म लिया है. लिंगानुपात में जिले के 18 गांवों में ध्यान देने की आवश्यकता है क्योंकि यहां आंकड़े 500 से नीचे हैं. महिला एवं बाल विकास विभाग के आंकड़ों के मुताबिक इस साल जनवरी से सितंबर 2022 तक जिले में 3961 बच्चों ने जन्म लिया है. इनमें 2054 लड़के और 1907 लड़कियां हैं. इस साल अब तक जिले का लिंगानुपात 928 है. पिछले पांच सालों की अपेक्षा में दादरी जिले के लिंगानुपात मे डेढ़ गुना बढ़ोतरी हुई है.

पूरे हरियाणा में दूसरे स्थान पर था चरखी दादरी 

वर्ष 2021 में जिले के लिंगानुपात के आंकड़े देखें तो सामने आया कि पिछले वर्ष जिले में 6982 बच्चों का जन्म हुआ. इनमें लड़कों की संख्या 3666 व लड़कियों की संख्या 3316 रही. पिछले वर्ष जिले का लिंगानुपात 905 था और पूरे हरियाणा में दादरी जिला दूसरे स्थान पर था. लिंगानुपात में सुधार होने पर जिला महिला एवं बाल विकास विभाग को आठ मार्च को आयोजित Programme में राज्य मंत्री कमलेश ढांडा ने सम्मानित किया था. अब अगर इस साल की बात करें तो लिंगानुपात 905 से बढ़कर 928 हुआ है.

कुछ गांव में लिंगानुपात जीरो 

इस साल के 9 माह में जिले के चार गांवों में एक भी बेटा नहीं जन्मा है जबकि इन गांवों में आठ बेटियों ने जन्म लिया है. वहीं, तीन गांव ऐसे हैं जहां एक भी बेटी नहीं जन्मी है जबकि यहां तीन लड़कों का जन्म हुआ है. जिले के गांव नौसवा में लिंगानुपात 8000 है. अख्त्यारपुरा में एक Boy और छह Girls जन्मी हैं. छिल्लर में इस साल दो बेटे व सात बेटियों ने जन्म लिया. गोविंदपुरा, बिंद्रावन व हड़ौदा खुर्द में इस साल लिंगानुपात जीरो है.

इन गांवों में 500 से भी कम है लिंगानुपात

खेड़ी बूरा में लिंगानुपात 471, सांवड़ में 467, सौंप में 455, कासनी में 444, मंदोली में 438, बडेसरा, विकास नगर और पिचोपा कलां में 333, काकड़ोली हट्ठी में 286, मोरवाला, भारीवास, सिरसली और मांढी केहर में 250, मांढी हरिया में 222 और कारीदास में 111 है.

लिंगानुपात बढ़ाने के लिए किए गए यह कार्य 

लिंगानुपात के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए जहां लिंगानुपात कम था और वहां जागरूकता अभियान चलाया गया. आंगनबाड़ी केंद्र पर बेटियों का सामूहिक Birthday मनाया गया. कोरोना काल में भी कन्या जन्म पर जच्चा-बच्चा को स्वास्थ्य केंद्र पर सम्मानित किया.

स्थिति सुधारने के लिए विभाग लगातार कर रहा है कोशिश 

महिला एवं बाल विकास विभाग,CDPO, गीता सहारण का कहना है कि 2021 के मुकाबले 2022 में जिले के लिंगानुपात की Condition में थोड़ा सुधार हुआ है. 2021 में लिंगानुपात 905 था जो 2022 में सितंबर तक 925 है. जिन गांवों में लिंगानुपात काफी कम है, उन पर Department अब ज्यादा ध्यान देगा. इन गांवों में जागरूकता के लिए विभिन्न Activities करवाई जाएंगी. जिला प्रशासन के सहयोग से महिला एवं बाल विकास विभाग लिंगानुपात की स्थिति को और बेहतर करने के लिए लगातार कोशिशें कर रहा है.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
PAK VS NZ T20 WC 2022 Playing 11: सेमाीफाइनल मुकाबले में ऐसी हो सकती है न्यूजीलैंड और पाकिस्तान की प्लेइंग 11 ये हैं भारत की सबसे ज्यादा फीचर्स वाली टॉप-5 सीएनजी कारें, Top CNG Cars ICC T20 World Cup 2022: India vs England सेमीफाइनल मुकाबले से पहले बुरी खबर, यह स्टार खिलाड़ी हुआ चोटिल