Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Haryana NewsJobs

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, अब ये सरकारी कर्मचारी होंगे नौकरी से बाहर

इस न्यूज़ को शेयर करे:

चंडीगढ़ :- फर्जी खेल ग्रेडेशन सर्टिफिकेट से नौकरी लगे डी ग्रुप कर्मचारी बाहर होंगे. खेल कोटे से ग्रुप-डी में फर्जी प्रमाणपत्रों के आधार पर नौकरी लेने की शिकायतों पर खेल विभाग ने कड़ा रुख अपनाया है. न केवल भर्ती हो चुके कर्मचारियों, बल्कि खेल कोटे से नौकरी मांग रहे सभी युवाओं के खेल ग्रेडेशन सर्टिफिकेट खेल विभाग की वेबसाइट पर सार्वजनिक किए जाएंगे. हमारे व्हाट्सप्प ग्रुप में जुड़ने का लिंक: Click Here

ग्रेडेशन सर्टिफिकेट हाेंगे आनलाइन

हरियाणा सरकार ने निर्णय लिया है कि यदि किसी भी व्यक्ति को इन सर्टिफिकेट को देखकर गड़बड़ लगती है तो है शिकायत कर सकता है. यदि व्यक्ति परआरोप साबित होता है तो मैं केवल उसकी नौकरी जाएगी, बल्कि उस व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्रवाई भी की जाएगी.

नई खेल ग्रेडेशन नीति के तहत जारी ग्रेडेशन सर्टिफिकेट पूरी तरह पारदर्शी होंगे. इससे फर्जीवाड़े पर रोक लगेगी. साथ ही खेल कोटे से योग्यता रखने वालों को नौकरी मिलने का रास्ता साफ होगा. खेल विभाग ने नई खेल ग्रेडेशन नीति के तहत तकरीबन 455 संभावित खेल नर्सरियों को सूचीबद्ध किया है. इस सूची में 170 सरकारी विद्यालयों, 157 निजी शिक्षण संस्थानों, 81 निजी खेल प्रशिक्षण केंद्र व 47 राजीव गांधी ग्रामीण खेल परिसर को शामिल किया गया है.

खेल विभाग द्वारा 455 संभावित खेल नर्सरियों को किया गया सूचीबद्ध

ग्रुप-डी की भर्ती में हुए ग्रेडेशन सर्टिफिकेट फर्जीवाड़े की विजिलेंस द्वारा जांच की जा रही है. जांच रिपोर्ट में सच्चाई सामने आएगी कि कितने खिलाड़ियों ने फर्जी ग्रेडेशन सर्टिफिकेट के आधार पर नौकरी प्राप्त की है. फिलहाल , विजिलेंस जांच रिपोर्ट से पहले खेल विभाग ने ग्रेडेशन सर्टिफिकेट में हो रहे फर्जीवाड़े पर कड़ा रुख अपनाते हुए इसे ऑनलाइन करने का फैसला किया है.

खेल निदेशक आइपीएस पंकज नैन ने बताया कि झूठे खेल प्रमाण बनवाने की शिकायतों को देखते हुए विभाग द्वारा यह फैसला लिया गया है. इस सूची को देखकर आमजन ऐसे खिलाडि़यों की सूचना दे सकेगा जिन्होंने झूठे खेल ग्रेडेशन प्रमाणपत्र बनवाकर सरकारी नौकरी ली है.

शार्टलिस्ट खेल नर्सरियों का खेल विभाग की टीम करेगी दौरा

खेल विभाग की ओर से जिन खेल नर्सरियों को शार्टलिस्ट किया है, इनमें खेल सुविधाओं की जांच की जाएगी. इसको लेकर खेल विभाग की ओर से डिस्ट्रिक्ट लेवल पर एक लेक्ट कमेटी का गठन किया जाएगा, जोकि शार्टलिस्ट संस्थानों व निजी खेल प्रशिक्षण केंद्रों का दौरा करेगी और इन संस्थानों में उपलब्ध खेल सुविधाओं की अच्छी तरह जांच करेगी.

जो संस्थान विभाग द्वारा निर्धारित मापदंड पूरा नहीं करेगा उसका नाम अंतिम सूची में से हटा दिया जाएगा. जो संस्थान विभाग द्वारा तय किए गए मापदंड को पूरा करेंगे केवल उन्हें ही अंतिम सूची में शामिल किया जाएगा.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button