Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Haryana NewsCrime

भिवानी: सेना की भर्ती नहीं होने से ओवरएज हुए युवक ने दी जान; सुसाइड नोट में लिखा- ‘पापा अगले जन्म में फौजी बनूंगा

इस न्यूज़ को शेयर करे:

भिवानी :- तीन साल से सेना की भर्ती नहीं होने पर ओवरेज होने से भिवानी के एक युवक पवन ने फांसी लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर दी. फांसी लगाने के साथ ही उसने एक सुसाइड नोट छोड़ा है, जिसमें लिखा कि, “पापा जी, अगले जन्म में मैं जरूर फौजी बनूंगा.” पवन में बचपन से ही सेना में भर्ती होने का इतना जुनून सवार था कि वो सालों से हर रोज़ तीन तीन बार दौड़ लगाता था. जिसके चलते आसपास के गांव में उसके जैसा कोई धावक नहीं था. पूरा गांव पवन की मौत से काफी आहत है और अब सरकार से एक ही मांग कर रहा है कि सरकार जल्दी सेना भर्ती शुरू करे, ताकि किसी और का जिगर का टुकड़ा ऐसे दुनिया से अलविदा ना हो.

बताते हैं कि 22 वर्षीय पवन को बचपन से ही सेना में भर्ती होकर देश सेवा करने का काफी जुनून था. जिसको लेकर वो 9-10 सालों से सेना में भर्ती होने के लिए हर रोज़ सुबह शाम व रात को कई किलोमीटर दौड़ लगाता था. इस जुनून में पवन आस पास के गांवों में सबसे तेज व अच्छा धावक बन चुका था. पर पवन की किस्मत में कुछ और ही लिखा था. वहीं इस मामले को लेकर भाजपा के पीलीभीत सांसद वरुण गांधी ने Tweet कर चिंता जताई है.

पवन ने सेना की तीन भर्ती देखी, पर चयन नहीं हो पाया. अब कोरोना महामारी के चलते तीन साल से भर्ती नहीं हुई और पवन की सेना में जाने की उम्र निकल गई . सेना में भर्ती होकर देश सेवा का जुनून ख़त्म होने से पवन इतना आहत हुआ कि अपने गांव के जिस स्कूल के ट्रैक पर हर रोज़ दौड़ता था, उसी पर सुसाइड नोट लिख पास के पेड़ पर फांसी का फंदा लगा कर जान दे दी. पवन ने लिखा की पापा जी अगले जन्म ज़रूर फ़ौजी बनूंगा.

सुबह युवाओं ने देखा पेड़ से लटका था पवन का शव 

सुबह जब बच्चे दौड़ने के लिए ट्रैक पर गए तो पेड़ से पवन का शव लटका देख सब हक्के बक्के रह गए. पेड़ के पास ट्रैक पर पवन का लिखा सुसाइड नोट देखा और फिर परिजनों व पुलिस को इसकी सूचना दी. पर परिजनों ने बिना कोई कार्यवाही के पवन का अंतिम संस्कार कर दिया. पवन के पीड़ित पिता जसवंत ने बताया कि पवन में देश सेवा के लिए सेना में भर्ती का जज्बा था. वह सालों से तैयारी कर रहा था. पर अब भर्ती ना निकलने पर आहत होकर आत्महत्या कर ली. पिता ने अपने बेटे की मौत के लिए सरकार को ज़िम्मेवार बताया है. साथ ही जल्द भर्ती करने की अपील की है ताकि किसी और का लाल ऐसी स्थिति में ना आए.

जुनूनी पवन से गांव के युवा करते थे प्यार

पवन को पूरे गांव के युवा बहुत प्यार करते थे. गांव के युवा जो सेना भर्ती की तैयारी कर रहे हैं वह पवन को अपना आदर्श मानते थे. अब पवन के ये साथी बेहद हताश व परेशान हैं. इनका भी कहना है कि पवन जैसा मेहनती व तेज धावक कोई नहीं. पवन जब ओवर एज हुआ तो उसका जुनून व सपना दोनों ख़त्म हो गए जिसके चलते उसने ये कदम उठाया. पवन के हर साथी की अब यही मांग है कि जल्द से जल्द सेना भर्ती कराई जाए ताकि किसी और युवा के मन में ऐसा ग़लत ख़्याल ना आए.

देश सेवा का ये जज़्बा ही हमारी सेना को पूरी दुनिया में सबसे ताकतवर बनाता है. पर इसके साथ ही पवन का ये कदम सरकार के साथ समाज व युवा पीढ़ी के लिए बड़ा सवाल है कि सरकार समय रहते रोज़गार दे, समाज युवाओं को शिक्षा संस्कार के साथ हर समस्या का समाधान बताए और युवा कभी ऐसा कदम ना उठाएं, क्योंकि जीवन में एक मौक़ा ख़त्म होता है तो 99 मौक़े बाक़ी रहते हैं. कभी भी किसी को हिम्मत नहीं आनी चाहिए और अपने लक्ष्य के प्रति दृढ़ निश्चय ही होना चाहिए. पवन के इस कदम से उसका परिवार बेसहारा हो गया है और वह अपने पीछे अपने परिवार को रोता छोड़ गया है.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button