Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Government SchemeHaryana News

महिलाओ को आत्मनिर्भर बनाने के लिए हरियाणा सरकार ने शुरू की नई योजना, दो हजार महिलाओ को हर वर्ष मिलेंगे तीन लाख रूपए

इस न्यूज़ को शेयर करे:

चंडीगढ़ :- सरकार ने राज्य की महिलाओं को सशक्त बनाने के उद्देश्य से हरियाणा मातृशक्ति उद्यमिता नाम से एक नई योजना शुरू की है. इस योजना से हर वर्ष दो हजार महिलाओं को सरकार की तरफ से स्वरोजगार स्थापित करने के लिए 3 लाख की राशि उपलब्ध करवाई जाएगी. मिली जानकारी के अनुसार बता दे कि डॉक्टर जयशंकर आभीर ने बताया कि महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के यह सरकार की ओर से विभिन्न प्रकार की योजनाएं चलाई जाएंगी. इन योजनाओं से महिलाओं को आर्थिक सहायता से लेकर रोजगार स्थापित करने में मदद मिलेगी.

जानिये मातृशक्ति उद्यमिता योजना के बारे में 

सरकार ने आजादी के अमृत महोत्सव की हरियाणा मातृशक्ति उद्यमिता योजना शुरू की है. डीसी आदि ने बताया कि इस योजना का लाभ उन महिलाओ को मिलेगा जो हरियाणा की स्थाई निवासी है.जिनके पास परिवार पहचान पत्र में आंकड़ों के आधार पर वार्षिक आय 5लाख रूपये या इससे कम है.उन्होंने बताया कि यह लाभ केवल उन्ही महिलाओं को मिलेगा जिनकी आयु 18 से 60 वर्ष के बीच होगी. आवेदक किसी भी योजना के लिए गए लोन में डिफाल्टर नही होना चाहिए. इस योजना में महिला विकास निगम की ओर से 3साल के लिए 7 प्रतिशत ब्याज पर 3 लाख रूपये उपलब्ध कराए जाएंगे. ऋण संवितरण के बाद अधिस्थगन 3 महीने की अवधि होगी.

सभी अनुसूचित वाणिज्य बैंक, सहकारी बैंक, क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक जो भी कोर बैंकिंग पोलूशन प्लेटफार्म पर है, वह इस योजना के तहत ब्याज सब्सिडी प्राप्त करने के लिए पात्र होंगे. वित्तीय संस्थान की ओर से किए गए दावों का निपटारा निगम द्वारा वार्षिक आधार पर किया जा सकता है. जल्द ही जिला प्रबंधक की ओर से आंकड़ों की जांच भी की जाएगी और वित्तीय संस्थान को ब्याज सब्सिडी राशि जारी की जाएगी.

इन जरूरी दस्तावेजों की होगी आवश्यकता

आवेदन करने के लिए महिला का नाम परिवार पहचान पत्र में दर्ज होना चाहिए . के साथ महिलाओं को योजना का लाभ लेने के लिए परिवार पहचान पत्र, ट्रेनिंग प्रमाण पत्र, आधार कार्ड निवास प्रमाण पत्र,आय प्रमाण पत्र आयु प्रमाण पत्र, पासपोर्ट साइज फोटो अभी जरूरी डॉक्यूमेंट की आवश्यकता होगी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button