Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Government SchemeChandigarh

सौर ऊर्जा को लेकर सरकार की नई रणनीति: 2023 से 2030 तक हर साल हरियाणा में लगेंगे 3500 मेगावाट के सोलर प्लांट

इस न्यूज़ को शेयर करे:

चंडीगढ़:- बिजली की बढ़ रही मांग अपने आप में एक चुनौती बन गई है. बिजली की खपत अधिक है और किसी प्रकार बिजली खरीदकर उपभोक्ताओं को उपलब्ध कराई जा रही है. बिजली की कमी दूर करने के लिए हरेडा ने वर्ष 2023 से 2030 तक का Plan बनाया है. इसके अंतर्गत हर साल प्रदेश में 3500 मेगावाट सौर ऊर्जा (Solar Energy Plant) के प्लांट स्थापित किये जायेंगे. इनमें ग्राउंड माउंटेड ग्रिड कनेक्टेड सोलर पावर प्लांट, रूफटॉप ग्रिड कनेक्टेड, ऑफ ग्रिड सोलर पावर प्लांट, सोलर पंप ऑफ ग्रिड एवं ऑन ग्रिड, सोलर पावर प्लांट्स ऑन कनाल सिस्टम और केपटिव सोलर पावर प्लांट सम्मिलित है. सरकार की तरफ से वर्ष 2016 में सोलर पावर पॉलिसी (Solar Power Policy) बनाई गई थी. विभाग को वर्ष 2021-22 में 4800 मेगावाट सौर ऊर्जा तैयार करनी थीं , परंतु केवल 600 मेगावाट बिजली ही तैयार हुई.

वहीं राज्य में लगभग 15 लाख हेक्टेयर में धान की खेती की जाती है. धान की पराली पर आधारित प्लांट स्थापित करके भी बिजली तैयार की जाएगी. इसके लिए 600 मेगावाट बिजली तैयार करने की प्लानिंग ( Planing) की गई है. पांच-पांच मेगावाट के लगभग 120 प्लांट लगाए जाएंगे. 2023 के धान सीजन से किसानों से पराली खरीदी जाएगी.

नहर किनारे बनेगी 200 मेगावाट बिजली

हरियाणा के उत्तरी एवं पूर्वी जिलों में नहरों के किनारों पर सोलर बिजली का उत्पादन नहीं संभव नहीं हो पाएगा. ऐसे में अब दक्षिण पश्चिम के जिलों में इसे तैयार किया जाएगा. इनमें सिरसा, फतेहाबाद, हिसार, भिवानी, नारनौल और मेवात आदि जिले शामिल होंगे. इनमें 200 मेगावाट सौर ऊर्जा उत्पन्न करने की प्लानिंग है.

खेतों में तैयार होगी 2000 मेगावाट बिजली

हरेडा ने 2000 मेगावाट बिजली किसानों के खेतों में तैयार करने का विचार भी बनाया है. इस साल इस पर काम भी शुरू होजायेगा. इसके अंतर्गत 1000 किसानों के यहां दो-दो मेगावाट के बिजली प्लांट लग पाएंगे. इस बिजली का उपयोग दूसरे किसान भी कर पाएंगे. इस योजना में कंपनियां भी शामिल हो सकेंगी जबकि किसान स्टेक होल्डर (Stake Holder) की भूमिका में होंगे.

सरकार की तरफ से मंजूरी मिलने के बाद शुरू होगा कार्य

हरियाणा के चेयरमैन स्वतंत्र कुमार का कहना है कि सौर ऊर्जा को लेकर अगले 8 साल की कार्य योजना बनाई गई है. इसके अंतर्गत हर साल 3500 मेगावाट बिजली बनाई जाएगी. 1000 किसानों के खेतों में 2-2 मेगावाट के सौर ऊर्जा प्लांट लगाने की Planing भी है. सरकार की तरफ से स्वीकृति मिलने के बाद योजनाओं पर काम शुरू होगा.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button