Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Education

सरकारी स्कूलों के होनहार बनेंगे आत्मनिर्भर, कौशल रोजगार के तहत मिलेगी ट्रेनिंग

इस न्यूज़ को शेयर करे:

यमुनानगर:- सरकारी स्कूलों के प्रतिभाशाली बच्चे अब हाथ की कारीगरी सीखेंगे, ताकि पढ़ाई पूरी होते ही वह अपने पैरों पर खड़ा हो सके. शिक्षा विभाग द्वारा लगातार इसके लिए कोशिशें जारी है. इसी दिशा में जिले के 12 और सरकारी स्कूलों में विद्यार्थियों को कौशल रोजगार के तहत ट्रेनिंग (Training) दी जाएगी. इससे विद्यार्थी अपने पसंद के रोजगार में दक्ष हो पाएंगे. जिले में पहले से 51 सरकारी स्कूलों में कौशल रोजगार के तहत ट्रेनिंग दी जा रही है.

रोजगार के अवसर होंगे सुनिश्चित

अब हरियाणा स्कूल शिक्षा परियोजना परिषद की तरफ से सत्र 2022-2023 के लिए 12 और स्कूलों को चुना गया है. इनमें बच्चों को व्यवसायिक शिक्षा दी जाएगी ताकि उनका भविष्य सुदृढ़ हो सके. इस प्रकार ट्रेनिंग लिए हुए विद्यार्थियों की जब भी पढ़ाई पूरी हो गई तो वह आत्मनिर्भर होंगे. अपने व्यवसाय में दक्ष होने के कारण वह अपना रोजगार भी खोल सकते हैं और उन्हें रोजगार के लिए दर-दर की ठोकरें नहीं खानी पड़ेगी.

 चुने गए यह 12 स्कूल

  • स्कूल                            स्किल
  • GSSS चुहरपुर कला      ऑटोमोबाइल तथा ब्यूटी एंड वैलनेस
  • GSSS अराइयावाला      ऑटोमोबाइल तथा ब्यूटी एंड वैलनेस
  • GSSS छोली रामपुर      ऑटोमोबाइल तथा ब्यूटी एंड वैलनेस
  • GSSS सलेमपुर कोही    ओटोमोबाइल तथा ब्यूटी एंड वैलनेस
  • गवर्नमेंट स्कूल अलाहर   प्लंबिंग व पावर
  • गवर्नमेंट स्कूल धनोरा     ऑटो मोबाइल
  • गवर्नमेंट स्कूल घिलोर    एग्रीकल्चर
  • GSSS लाकड़               कंस्ट्रक्शन
  • जीएचएस तेजली           पावर
  • जीएचएस काठगढ़         प्लंबिंग व ऑटोमोबाइल
  • जीएचएस रामपुर खादर  प्लंबिंग
  • GSSS जमालपुर            अप्रर्ल्स, मेड अपस एंड होम फर्निशिंग

मई में बांटी गई थी टूलकिट

सरकार की तरफ से राज्य के स्कूलों में बच्चों को व्यवसाय शिक्षा के लिए टूलकिट मई महीने में बांटी गई थी. विशेषज्ञों का कहना है कि Skill India की दिशा में सरकार ने एक और कदम बढ़ाया है. इस कदम से बेटियां भी ब्यूटी एंड वैलनेस में दक्ष होंगी तथा अपना रोजगार शुरू कर पाएंगी. समाज में लोगों की सोच में भी बदलाव आएगा.

नौकरी देने स्कूलों में आएंगे विशेषज्ञ

विभाग के अनुसार यदि विद्यार्थी अपने व्यवसाय में दक्ष हो जाएंगे तो उन्हें रोजगार मिलने के मौके सुनिश्चित हो जाएंगे. जिस प्रकार बड़े कंपनी संस्थानों में विशेषज्ञ आते हैं और प्लेसमेंट करते हैं, उसी प्रकार स्कूलों में भी विशेषज्ञ आएंगे. यह विशेषज्ञ निपुण विद्यार्थियों का उनकी दक्षता के अनुसार चयन करेंगे उन्हें रोजगार प्रदान करेंगे.

बच्चे होंगे आत्मनिर्भर

जिला परियोजना समन्वयक, सुमन बहमनी का कहना है कि सरकार की तरफ से 2022-2023 में 12 और राजकीय स्कूलों को कौशल रोजगार के लिए चयनित किया गया है. इससे जिले के विद्यार्थियों को लाभ होगा. विद्यार्थी अपनी पसंद की स्किल में निपुण होकर अपने पैरों पर खड़ा हो पाएंगे. इनमें से चार स्कूलों में बेटियों के लिए ब्यूटी एंड वैलनेस कोर्स भी उपलब्ध है.

Author Deepika Bhardwaj

नमस्कार मेरा नाम दीपिका भारद्वाज है. मैं 2022 से खबरी एक्सप्रेस पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रही हूं. मैंने कॉमर्स में मास्टर डिग्री की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करती हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुंचाती हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button