Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
Education

हरियाणा में बड़ी संख्या में सरकारी स्कूल मर्ज, अब शिक्षा के लिए बच्चों को लगानी होगी 3 किलोमीटर तक लंबी दौड़

इस न्यूज़ को शेयर करे:

यमुनानगर:- यह खबर Govt. स्कूल में पढ़ने वाले बच्चोंं के लिए है. आपको बता दें कि अगर आपके बच्चे या आप सरकारी स्कूल में पढ़ते हैं तो स्कूल में पहुंचने के लिए अब आपको 3 KM. तक की लंबी दौड़ लगानी पड़ेगी. क्योंकि जिले के 22 Middle स्कूलों को तीन किमी तक के दायरेे में आने वाले अन्य स्कूलों में तब्दील कर दिया गया है.

जारी की गई सूची

Directorate Of Education की तरफ तब्दील किए गए स्कूलों की List जारी कर दी गई है. इस लिस्ट के अनुसार जिन 19 मिडिल स्कूलों में छठीं से आठवीं कक्षा तक पढ़ने वाले छात्रों की संख्या 20 या इससे भी कम है, उन स्कूलों को 3 KM. के दायरे में आने वाले अन्य सरकारी स्कूलों में तब्दील कर दिया गया है. इसी प्रकार अन्य 3 मिडल स्कूल जिनमें विद्यार्थियों की संख्या 10 या उससे कम है और उनके आसपास कोई Other सरकारी स्कूल न होने की वजह से उनको भी तब्दील कर दिया गया है.

प्रदेश भर में 105 स्कूल हुए मर्ज

आपको जानकर हैरानी होगी कि शिक्षा विभाग ने प्रदेश भर में 105 स्कूलों को तब्दील कर दिया है, जिनमें सबसे अधिक संख्या यमुनानगर के स्कूलों की है. जाहिर सी बात है कि स्कूलों को 3KM. के दायरे में तब्दील किए जाने की वजह से Students और उनके Parents को काफी भारी समस्या का सामना करना पड़ेगा. जिन बच्चों और अभिभावकों के पास कोई साधन नहीं है, उन्हें तो बहुत बड़ी कठिनाई का सामना करना पड़ेगा. साधारण शब्दों में कहें तो मौसम खराब होने पर तो Time पर स्कूल पहुंचने के लिए बच्चों को अग्नि परीक्षा देनी पड़ेगी.

गरीबों से छीना शिक्षा का अधिकार

राजकीय अध्यापक संघ के जिला प्रधान महेंद्र सिंह कलेर का कहना है कि ऐसे फैसले लेकर कर शिक्षा विभाग गरीबों से शिक्षा का अधिकार छीनने का कार्य कर रहा है. शिक्षा का निजीकरण किया जा रहा है. जहाँ बच्चों व स्कूलों को सुविधाएं प्रदान करनी चाहिए वहीं सरकार स्कूलों को बंद करने पर तुली हुई है.

क्यों घट रही बच्चों की संख्या 

इन स्कूलों में बच्चों की संख्या घटने का साधारण सा कारण यह है कि स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के लिए Schemes तो बहुत ही चलाई गई हैं पर समय पर उनका कोई लाभ नहीं मिल रहा है. किताबें, Mid Day Meal व अन्य सुविधाएं समय पर न मिलने से स्कूलों में बच्चों की संख्या लगातार घटी है. समय पर सुविधाएं न दे पाने की नाकामी को छुपाने के लिए सरकार स्कूलों को तब्दील कर रही है. संघ इस नीति को कड़ा विरोध करता है और इसके खिलाफ आंदोलन करने की चेतावनी भी देता है.

पांच ब्लाक के 22 स्कूल हुए तब्दील 

ब्लॉक स्कूल और उनकी संख्या

  • मुस्तफाबाद – 05
  • रादौर – 02
  • बिलासपुर – 02
  • छछरौली – 11
  • जगाधरी – 02

Author Romiyo

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रोमियो परमार है. मैं खबरी एक्सप्रेस पर 2022 से बतौर कंटेंट राइटर का काम कर रही हूँ. मैंने बी.ए, एम.ए तक पढ़ाई की है. मैं सभी पाठकों तक लाइफस्टाइल से जुड़ी हुई खबरें पहुंचाती हूँ. आप तक हर खबर सही और सबसे पहले पहुंचे यही मेरा सर्वोत्तम उद्देशय है. मैं अपनी पूरी लगन और मेहनत से आप तक हर खबर पहुंचने में तत्पर हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button