Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
New Delhi

सरकार का एक और बड़ा फैसला, मैदा- सूजी के साथ गेहूं के आटे की बाहर बिक्री पर लगाई रोक

इस न्यूज़ को शेयर करे:

नई दिल्ली :- घरेलू स्तर पर इस्तेमाल होने वाले गेहूं के आटे में पिछले कुछ दिनों से बढ़त देखने को मिल रही है. जिस पर मोदी सरकार नेे अब एक अहम फैसला  लिया है. घरेलू स्तर पर बढ़ती हुई कीमतों पर पाबंदी लगाने के लिए सरकार द्वारा गेहूं के आटे, मैदा, सूजी और साबुत आटे के निर्यात पर रोक लगाई गई है. आपको बता दें कि इससे पहले May के महीने में सरकार ने गेहूं के निर्यात पर भी रोक लगाई थी. केंद्रीय मंत्रिमंडल के द्वारा लिए गए फैसले को अधिसूचित करते हुए, विदेश व्यापार महानिदेशालय ने कहा कि कुछ मामलों में भारत सरकार की अनुमति के अधीन इन वस्तुओं के निर्यात की अनुमति दी जाएगी.

लगाई गई रोक

DGFT की अधिसूचना के अनुसार, “वस्तुओं की निर्यात नीति को Free से निषिद्ध में संशोधित किया गया है.” सूजी में रवा और सिरगी भी शामिल की गई हैं. इसमें कहा गया है कि विदेश व्यापार नीति 2015-20 के तहत संक्रमणकालीन व्यवस्था के प्रावधान इस अधिसूचना के तहत लागू नहीं होंगे.

कीमतों में हुआ था इजाफा

25 अगस्त को सरकार ने कमोडिटी की बढ़ती कीमतों को रोकने के लिए गेहूं या मेसलिन के आटे के निर्यात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया. आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCEA) की बैठक में यह निर्णय लिया गया. एक आधिकारिक बयान में कहा गया है, “आर्थिक मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति ने गेहूं या मेसलिन के आटे को निर्यात प्रतिबंध/प्रतिबंध से छूट की नीति में संशोधन के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है.”

भारतीय गेहूं की बढ़ी मांग

दरअसल, रूस और यूक्रेन गेहूं के प्रमुख निर्यातक हैं, जो वैश्विक गेहूं व्यापार के लगभग एक-चौथाई के लिए जिम्मेदार हैं. दोनों देशों के बीच युद्ध ने वैश्विक गेहूं आपूर्ति श्रृंखला में व्यवधान पैदा किया है, जिससे भारतीय गेहूं की मांग बढ़ गई है. नतीजतन, घरेलू बाजार में गेहूं की कीमत में वृद्धि देखी गई है.

गेहूं के निर्यात पर रोक

देश की खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सरकार ने मई में गेहूं के निर्यात पर रोक लगा दी थी. हालांकि, इससे गेहूं के आटे की विदेशी मांग में उछाल आया. भारत से गेहूं के आटे के निर्यात ने अप्रैल-जुलाई 2022 के दौरान 2021 की इसी अवधि की तुलना में 200 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है. विदेशों में गेहूं के आटे की बढ़ती मांग के कारण घरेलू बाजार में वस्तु की कीमतों में उल्लेखनीय वृद्धि हुई.

Author Romiyo

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम रोमियो परमार है. मैं खबरी एक्सप्रेस पर 2022 से बतौर कंटेंट राइटर का काम कर रही हूँ. मैंने बी.ए, एम.ए तक पढ़ाई की है. मैं सभी पाठकों तक लाइफस्टाइल से जुड़ी हुई खबरें पहुंचाती हूँ. आप तक हर खबर सही और सबसे पहले पहुंचे यही मेरा सर्वोत्तम उद्देशय है. मैं अपनी पूरी लगन और मेहनत से आप तक हर खबर पहुंचने में तत्पर हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button