Join Telegram Group Join Now
Join WhatsApp Group Join Now
ChandigarhHaryana News

152-D: हरियाणा को इसी महीने मिलेगी सबसे बड़े राष्ट्रीय राजमार्ग की सौगात, 100 की स्पीड से कम चलने वाले वाहनों की एंट्री बैन

इस न्यूज़ को शेयर करे:

चंडीगढ़ :- हरियाणा में नारनौल से कुरुक्षेत्र के इस्माइलाबाद तक निर्माणाधीन राजमार्ग नेशनल ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस हाईवे 152-D का कार्य लगभग पूरा हो चुका है. उम्मीद की जा रही है की इसी महीने के अंत तक इस पर वाहनों का आवागमन शुरू हो सकता है. इस राजमार्ग पर भारी वाहनों की Speed 80 किलोमीटर प्रति घंटा और हल्के वाहनों की Speed 100 किलोमीटर प्रति घंटा तय की गई है. इससे धीमी गति वाले वाहनों का इस हाईवे पर चलना वर्जित किया गया है.

इस राजमार्ग पर दुपहिया, तिपहिया वाहनों का आवागमन वर्जित

अंबाला कोटपुतली इकोनॉमिक कॉरीडोर को लॉजिस्टिक हब बनाने के लिए इस राजमार्ग का निर्माण करवाया गया है. राष्ट्रीय राजमार्ग नंबर 152-D को हाई स्पीड एक्सिस कंट्रोल कोरिडोर के रूप में विकसित किया गया है. इस पर धीमी गति के वाहन जैसे दुपहिया वाहन, तिपहिया वाहन, गैस चालित मोटर वाहन, हाइड्रोलिक ट्रेलर वाहन आदि का आना वर्जित है. यह निर्णय होने वाली घटनाओं से बचाव के लिए लिया गया है.

70 किलोमीटर चौड़ाई रहेगी इस राष्ट्रीय राजमार्ग की 

नारनौल दक्षिण पश्चिम से लेकर कुरुक्षेत्र के उत्तर पूर्व के गंग हेड़ी तक लगभग 230 किलोमीटर पर बनने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग को 6 लेन का बनाया गया है, जिसको आवश्यकता पड़ने पर अपग्रेड किया जा सकता है. यह राजमार्ग नारनौल बाईपास पर 148-B से लिंक करेगा, जिसकी वजह से यातायात सुगम हो जाएगा. इस हाइवे के निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने 5108 करोड़ रुपए का बजट निश्चित किया था. इस हाईवे का निर्माण पूरा होने से जयपुर- नारनौल-अंबाला-चंडीगढ़ तक आवागमन में आसानी रहेगी. इस राजमार्ग की चौड़ाई 70 मीटर निर्धारित की गई है, और इस पर 122 ब्रिज और अंडरपास बनाए गए हैं. यह राजमार्ग सभी शहरो व गांवों के बाईपास से निकाला गया है ताकि यातायात व्यवस्था प्रभावित ना हो. इस हाईवे पर 100 किलोमीटर से अधिक की Speed वाले वाहनो को ही चंडीगढ़ जाने में सुविधा होगी.

हाईवे के दोनों तरफ लगाए जाएंगे लाखों पौधे

पर्यावरण को हरा-भरा बनाए रखने के लिए इस हाईवे के दोनों तरफ 1 लाख 36 हजार 2 सौ पौधे लगाए जाएंगे. इस मार्ग के दोनों तरफ लगभग 500 मीटर का क्षेत्र कवर किया जाएगा. इस हाईवे पर 40 लाइट वाहन अंडरपास और 110 छोटे वाहन अंडरपास और साथ ही इस पर 7 ORB भी बनाए गए हैं. यह 230 Km. लंबी सड़क परियोजना गंगहेड़ी से जींद, रोहतक, भिवानी, चरखी दादरी, महेंद्रगढ़, नारनौल, सहित 8 जिलों की सीमा से निकलेगा. नारनौल बाईपास पर इस हाइवे को NH-48-B से जोड़ा जाएगा. इस नई नेशनल हाईवे को बनाने से प्रदेश के विकास को गति मिलने के साथ साथ NH-1 का लोड कम होगा.

हाईवे पर मिलेंगी ये सुविधाएं

इस राजमार्ग पर 14 एंट्री और एग्जिट प्वाइंट बनाए गए है. इसी हाईवे के नीचे जहां से एंट्री और एग्जिट प्वाइंट बनाए गए हैं वहीं पर चालकों को टोल टैक्स देना होगा. इस राजमार्ग पर प्रत्येक किलोमीटर के क्षेत्र में CCTV लगाए गए हैं. यहां पर वाहन चालकों के लिए ढाबे और रेस्टोरेंट की सुविधा भी की गई है. इस राजमार्ग पर कर्मचारी तैनात रहेंगे और 24 घंटे एंबुलेंस की सुविधा रहेगी. प्रत्येक 10 किलोमीटर के क्षेत्र में ट्रैफिक मैनेजमेंट के लिए रडार सिस्टम लगाया गया है. यदि कोई भी वाहन चालक ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करता है तो उसका चालान Online कटकर वाहन मालिक के घर पर ही पहुंच जाएगा.

Author Shweta Devi

मेरा नाम श्वेता है. मैं हरियाणा के भिवानी जिले की निवासी हूं. मैंने D.Ed और स्नातक तक की पढ़ाई पूरी कर ली है. वर्तमान में मै Khabri Express पर बतौर लेखक के रूप में कार्य कर रही हूं. मै सरकार के द्वारा चलाई जा रही विभिन्न स्कीम, एजुकेशन और लाइफ स्टाइल से जुड़े विभिन्न कंटेंट जितनी जल्द हो सके पाठको तक पहुंचाने की कोशिश करती हूँ.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button