Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
खेती- बाड़ी

Cotton Price: इस बार तीन गुना कम हुई कपास की पैदावार, भाव ने भी किसानों को किया मायूस

इस न्यूज़ को शेयर करे:

जींद :- सफेद सोना कहीं जाने वाली कपास के भाव इन दिनों काफी कम चल रहे है. जिस वजह से किसानों को आर्थिक रुप से काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है. कपास के भाव कम होने के साथ- साथ मंडियों में कपास की आवक भी कम हो रही है. पिछले Season की अपेक्षा इस Season में कपास की आवक में 3 गुना कमी आई है. भाव कम मिलने से किसानों को अपनी मेहनत का पूरा फायदा नहीं मिल पा रहा है, जिस कारण किसानों की चिंता बढ़ी हुई है. किसान इस आस में बैठे है कि शायद उन्हें कपास के भाव अधिक मिल जाए.

कपास के भाव मिल रहे कम 

बता दें कि पिछले Season की अपेक्षा अबकी बार किसानों को फसलों के भाव काफी कम मिल रहे है. पिछले Season किसानों को कपास का भाव 9100 रूपये से 9200 रूपये प्रति क्विंटल के हिसाब से मिल रहा था, परंतु अबकी बार उन्हें कपास के भाव केवल 8200 से 8500 रुपए प्रति क्विंटल तक ही मिल रहे हैं. इस तरह यदि देखा जाए तो पिछले Season की अपेक्षा अबकी बार भाव मे 900 रुपये से 1000 रुपये तक की कमी आई है. जिस वजह से किसानों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है.

मंडियों में कपास की आवक कम 

इसके अलावा यदि कपास की आवक की बात करें तो Market कमेटी में दर्ज आंकड़ों के अनुसार इस Season में अब तक 31,389 क्विंटल कपास आ चुकी है. जबकि पिछले Season में इस समय तक 84,128 क्विंटल कपास की आवक मंडियो में हो चुकी थी. पिछले सीजन की अपेक्षा इस Season मंडियों में कपास की आवक में 3 गुना कम हुई है. यदि इसी तरह दिन प्रतिदिन भाव में कमी आती रही तो आने वाले सीजन में इससे भी कम कपास की आवक होगी.

भाव कम होने से कम हो सकती है कपास की बुआई 

मार्केट कमेटी सचिव नरेंद्र कुंडू ने बताया कि इस सीजन पिछले Season की अपेक्षा कपास की आवक और भाव में कमी आई है. किसान राजू, सुरेंद्र, बलजोर, सरूपा ने बताया कि अबकी बार कपास के भाव किसानों के लिए घाटे का सौदा साबित हो रही है. आवक कम होने के साथ- साथ भाव में आ रही गिरावट के कारण किसानों को आर्थिक परेशानी उठानी पड़ रही है. अगर इसी तरह से भाव में निरंतर कमी आती रहेगी तो किसानों का रुझान कपास की बुआई से हटता रहेगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button